Lakhimpur Kheri News:प्रशासन की पाठशाला में छात्राओं ने जाने सफलता के अचूक मंत्र

प्रशासन की पाठशाला में मेधावी बेटियों को मिली काउंसिलिग*

*स्वयं की क्षमता व योग्यता को पहचान कर आगे बढ़े बेटियां : डीएम*

एन.के.मिश्रा

लखीमपुर खीरी। जिला पंचायत सभागार में मिशन शक्ति अभियान के तहत *प्रशासन की पाठशाला* कार्यक्रम आयोजित हुआ। पाठशाला में डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने जो बालिकाएं विभिन्न प्रशासनिक सेवाओं जैसे पुलिस, फौज, एयरफोर्स, डॉक्टर, इंजीनियर आदि क्षेत्रों में आगे बढ़ना चाहती हैं, उनको सफलता के मंत्र बताए।पाठशाला में जिला मुख्यालय के दस इंटरमीडिएट विद्यालयों की कक्षा 11-12 की अध्ययनरत छात्राओं शामिल हुई।

प्रशासन की पाठशाला में डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह ने कहा कि स्वयं की क्षमता व योग्यता को पहचान कर बेटियां आगे बढ़े। यदि किसी प्रकार का संशय है। तो उसे व्यक्त करें। सवाल पूछे। अगले पांच वर्षों में स्वयं को कहां देखना चाहती हैं। इसके बारे में स्वयं विचार करें। उन्होंने कहा कि धैर्य समझ व प्रबंधन में बेटियां बहुत आगे है। उन्हें आवश्यकता है एक स्वस्थ वातावरण की। मिशन शक्ति कार्यक्रम के माध्यम से बेटियों को उनकी समझ व क्षमता का एहसास कराया जा रहा है। उन्होंने बेटियों का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि अभी से 05 वर्षों की मेहनत पूरे जीवन को सुखमय मार्ग प्रशस्त करेगी।

बीएसए बुद्धप्रिय सिंह ने कहा कि आप सभी सौभाग्यशाली हैं कि मिशन शक्ति कार्यक्रम के तहत इस प्रकार कैरियर निर्माण की दिशा को तय करने का अवसर प्राप्त हुआ है। अपने बारे में सबसे अच्छा फैसला आप स्वयं कर सकते हैं। क्योंकि अपनी कमियां और क्षमता हमें स्वयं से मालूम है। उन्होंने छात्राओं को अध्यापक बनने की इच्छा को देखते हुए उन्हें बधाई दी।

इससे पहले जिला प्रोबेशन अधिकारी संजय कुमार निगम ने मिशन शक्ति कार्यक्रम की उपयोगिता व प्रसंगिकता के बारे में विस्तार से प्रकाश डाला। सहायक अध्यापिका रूपाली ने अध्यापक बनने की योग्यता व तैयारियों के बारे में जानकारी दी। उप निरीक्षक (पुलिस) श्रद्धा सिंह ने पुलिस सेवा में बेटियों के लिए अवसरों के बारे में विस्तार से बताया। उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ एके चौधरी ने मेडिकल के क्षेत्र में उपलब्ध अवसरों के बारे में बेटियों द्वारा पूछे गए प्रश्नों का उत्तर दिया। चार्टर्ड अकाउंटेंट अनुराग तिवारी ने सीए की फील्ड के बारे में बताया। इस अवसर पर जिला विद्यालय निरीक्षक ओपी त्रिपाठी व जिला सेवायोजन अधिकारी ने भी संबोधित कर बेटियों की जिज्ञासाओं के एक-एक कर उत्तर दिए।

बताते चलें कि कार्यक्रम में छात्राओं को तनावमुक्त तैयारी कैसे करें। उसके बारे में बताया। साथ ही प्रतियोगी परीक्षा में गुणवत्ता परक तैयारी के लिए जनपद के विषय विशेषज्ञों ने छात्राओं का मार्गदर्शन किया। इस दौरान जिला अधिकारी ने बताया कि इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य छात्राओं को मोटिवेट करना और उन्हें मार्गदर्शन देना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *