Gonda News:तहसील तरबगंज अंतर्गत भिखारीपुर-सकरौर तटबंध कटने से बचा, देर रात तक डटे रहे डीएम, संभाली कमान

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। घाघरा नदी का जलस्तर घटना शुरू होते ही नदी की कटान तेज हो गई है।रविवार को तहसील तरबगंज अंतर्गत भिखारीपुर-सकरौर तटबंध पर कटान शुरू हो गई। तटबंध को कटने से बचाने के लिए बाढ़ खंड के इंजीनियर्स को युद्ध स्तर पर बचाव कार्य के निर्देश दिए गए।

जिलाधिकारी डॉ नितिन बंसल स्वयं पूरी रात अधिकारियों के साथ तटबंध पर डटे रहे तथा तटबंध मरम्मत का कार्य कराया जिससे तटबंध टूटने से बचा लिया गया। 

 जिलाधिकारी ने बताया कि नेपाल से 4 लाख 12हजार क्यूसेक से अधिक पानी छोड़ा गया था जिससे घाघरा का जलस्तर खतरे के निशान से 108 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच गया था। रविवार से नदी का जलस्तर घटना शुरू हुआ तो कटान तेज हो गई है। 

कटान तेज होते ही भिखारीपुर-सकरौरा  के किलोमीटर 17-18 के बीच कटान चालू हो गई। कटान शुरू होने की सूचना पर जिलाधिकारी ने तत्काल तटबंध बचाव कार्य के निर्देश दिए।

स्वयं जिलाधिकारी पूरी रात मौके पर मौजूद रहे तथा लगातार 6 घंटे तक  बोल्डर, झांवा, नायलॉन क्रेट तथा ट्री स्पर से बचाव/ मरम्मत कार्य किया गया। जिससे तटबंध को कटने से बचा लिया गया तथा वर्तमान में तटबंध सुरक्षित है।

उन्होंने बाढ़ खंड के अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जहां कहीं भी कटान का खतरा हो, ऐसे सभी जगहों पर मरम्मत कार्य चालू रखा जाए।

इस दौरान जिलाधिकारी के साथ अपर जिलाधिकारी राकेश सिंह, अधीक्षण अभियंता बाढ़ खंड, एक्सईएन बाढ़ खंड बीएन शुक्ला, एसडीएम तरबगंज, जिला आपदा विशेषज्ञ राजेश श्रीवास्तव व अन्य अधिकारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *