Lakhimpur Kheri News:खीरी के बाढ़ पीड़ितों से सीएम ने किया वर्चुअल संवाद….

खीरी के बाढ़ से प्रभावित 30299 किसानों के खातों में क्षतिग्रस्त अनुदान राशि 12 करोड़ 11 लाख का आनलाइन हस्तांतरण कर सीएम ने किया वर्चुअल संवाद


सीएम से बात कर खिल उठे बाढ़ पीड़ितों के चेहरे

एन.के.मिश्रा
लखीमपुर खीरी। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 5 कालिदास मार्ग से वर्चुअल खीरी के बाढ़ प्रभावित इलाकों के प्रभावित लोगों से सीधी बात कर उन्हें प्रशासन द्वारा उपलब्ध जाने वाली सहायता एवं राहत सामग्री के विषय में जानकारी की। मुख्यमंत्री ने खीरी के 30299 किसानों के खातों में क्षतिग्रस्त फसल की मुआवजा हेतु 12 करोड़ 11 लाख की धनराशि भेजी।
कलेक्ट्रेट स्थित जिला सूचना एवं विज्ञान केंद्र (एनआईसी) के माध्यम से डीएम शैलेंद्र कुमार सिंह, एडीएम अरुण कुमार सिंह, एसडीएम सदर डॉ एके सिंह, तहसीलदार सदर उमाशंकर  की उपस्थिति में बाढ़ प्रभावित इलाकों के पांच ग्रामीणों वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से जुड़े और अपने अनुभव साझा किए।
इस वर्चुअल संवाद कार्यक्रम में खीरी के बाढ़ पीड़ितों ने प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराई गई सुविधाओं एवं राहत सामग्री को अपने लिए वरदान बताया। उन्होंने बताया कि प्रशासन ने उनकी उस कठिन वक्त में पग-पग पर पूरा साथ निभाया। सीएम ने उनसे प्रभावित कृषि योग्य भूमि के विषय में जानकारी की। बाढ़ पीड़ित विष्णु बल्लभ राय ने सीएम के पूछने पर बताया कि उनकी 70 फ़ीसदी फसल का नुकसान हुआ था। उसने बताया कि उस संकट की घड़ी में प्रशासन ने उसे खाद्यान्न किट सहित अन्य सहायता सामग्री उपलब्ध कराई थी और गांव में आने-जाने हेतु नाव का भी प्रशासन द्वारा प्रबंध किया गया था।
वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सीएम ने किसानों को हृदय से बधाई एवं शुभकामनाएं दी। उन्होंने आश्वस्त किया कि केंद्र व प्रदेश सरकार किसानों के हितों के लिए पूरी तरह कार्य करने के लिए प्रतिबद्ध है। किसान के जीवन में खुशहाली आए। इसके लिए लागत का डेढ़ गुना दाम हुआ व न्यूनतम समर्थन मूल्य उन्हें प्राप्त हो। यह सरकार की शीर्ष प्राथमिकता है।  
उन्होंने कहा कि किसानों को उपज का न्यूनतम समर्थन मूल्य प्राप्त हो। यह प्रशासन प्रत्येक दशा में सुनिश्चित कराएं।  किसानों के साथ अन्याय एवं शोषण करने वालों के साथ प्रशासन सख्ती से निपटे। कोविड काल में कृषि सेक्टर ने अर्थव्यवस्था को नई जान दी है। किसानों के हर सुख दुख में सरकार पूरी मजबूती के साथ खड़ी है।
उन्होंने बताया कि पूरे प्रदेश में 20 से अधिक जनपद बाढ़ से प्रभावित हुए लगभग 3.50 लाख किसान बाढ़ से सीधे प्रभावित हुए। उनकी मेहनत की कमाई बाढ़ की चपेट चपेट में आई थी। बाढ़ के समय में राहत आयुक्त कार्यालय के माध्यम से नावे उपलब्ध कराने के साथ ही NDRF/SDRF के द्वारा राहत उपलब्ध कराने हेतु समय बद्ध योजना बनाई गई। पूरा प्रयास था कि पीड़ित जनो को पर्याप्त मात्रा में राशन सामग्री मिले। जनपद खीरी के 30299 किसानों के खातों में क्षतिग्रस्त फसल की मुआवजा हेतु 12 करोड़ 11 लाख की धनराशि भेजी गयी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *