Lakhimpur- Kheri-News-सीएम से कमेटी गठित कर जांच की मांग जमुनाबाद फार्म में भ्रष्टाचार

एन.के.मिश्रा

गोला गोकर्णनाथ, लखीमपुरखीरी। राजकीय कृषि बीज संम्बवर्धन प्रक्षेत्र जमुनाबाद खीरी में वित्तीय वर्ष 2018 में प्रक्षेत्र पर फर्जी कार्यो  के लिए फर्जी बिलों के भुगतान में हुए व्यापक भ्रष्टाचार के सम्बन्ध में अधिवक्ता महेश प्रसाद वर्मा निवासी ग्राम शाहबुद्दीनपुर ने मुख्यमंत्री को प्रार्थना पत्र भेजकर गैर विभागीय जांच कमेटी गठित कर स्वंय को कार्यवाही से अवगत कराने की मांग की थी, पर अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई। 

अधिवक्ता महेश प्रसाद वर्मा निवासी ग्राम शाहबुद्दीनपुर ने 20 नवम्बर 2019 को मुख्यमंत्री को प्रेषित पत्र में कहा था कि प्रार्थी ने सूचना अधिनियम 2006 की धारा 6(1) केअन्तर्गत दिनांक आठ अक्टूबर 2018 को जमुनाबाद प्रक्षेत्र पर नौ बिन्दुओं पर सूचनायें मांगी थी, बड़ी जद्दोजहद के उपरान्त 30 सितम्बर 2019 को प्रक्षेत्र प्रबन्ध ने अधूरी सूचनायें उपलब्ध करायी। प्राप्त सूचनाओं के परिप्रेक्ष्य में उनसे वार्ता करने में असहोग करने के बावजूद सूचनाओं से प्राप्त तथ्यों के आधार पर भारी भ्रष्टाचार होना प्रकाश में आया है।

कहा गया है कि प्रेक्षत्र पर उपलब्ध सभी ट्रैक्टर्स पर मरम्मत रिपेयरिंग के बिल भुगतान कराये गये पर प्रक्षेत्र पर जुताई एवं सभी कार्य प्राइवेट ट्रैक्टर्स से कराये गये। उनके बिलों का भुगतान किया पर कार्य की स्वीकृति प्रबन्धक से नही ली गई।

जबकि ट्रैक्टर्स के रिपेयरिंग पर धन खर्च किया गया, तब प्राइवेट ट्रैक्टर्स से कार्य का औचित्य क्या हुआ। कृषि कार्य हेतु उर्वरक, कीटनाशी एवं खरपतवरनाशी वस्तुए बिना कोटेशन प्राप्त किये मनमाने ढ़ंग से खरीदी गईं, जिनके जीएसटी बिल नही लिये गये, जो कैशमैमो प्राप्त किये गये वह ट्रैजरी क्रेडिट से मैच नही खाते, प्रक्षेत्र पर स्पेयरमशीन, सोलर नलकूपों की इंस्टालेशन की पूर्व स्वीकृति न होते हुए भी स्थापित किये गये, जिनका बिल कोटेशन नही लिया गया।

उत्पादित बीज निवेश के उपयोग के बजाय बाजारों में बेंच दिया जाता है। ऐसे बहाव वाले मार्ग और राही को सख्ती से रोकने की आवश्यकता है। अंत में अधिवक्ता महेश प्रसाद वर्मा निवासी ग्राम शाहबुद्दीनपुर ने मुख्यमंत्री से गैर विभागीय जांच कमेटी गठित कर स्वयं को की गई कार्यवाही से अवगत कराने की मांग की थी। पर अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई। आरोप है कि जो सूचनाएं उपलब्ध कराई गई वह अपूर्ण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *