Lakhimpur Kheri News:बकाया गन्ना भुगतान को लेकर छठे दिन गांव अजान में किसानों ने की महापंचायत।

एन.के.मिश्रा

गोला गोकर्णनाथ-खीरी। गन्ना बकाया भुगतान को लेकर आज छठे दिन भूख हड़ताल पर बैठे किसान मजदूर संगठन के जिला अध्यक्ष श्रीकृष्ण वर्मा ने किसानों के साथ गन्ना मूल्य भुगतान को लेकर अजान गांव में किसान महापंचायत की।
किसानों की पंचायत में तहसीलदार विपिन कुमार द्विवेदी और पुलिस चौकी प्रभारी अजान शशि शेखर यादव की किसानों से मंच बनाने और लाउडस्पीकर लगाने को लेकर तकरार भी हुई। मौजूद प्रशासनिक अधिकारियों ने कहा कि आपके विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया जाएगा जिस पर श्रीकृष्ण वर्मा भड़क गए और तहसीलदार से किसान पंचायत स्थल से विरोध कर बाहर निकल जाने को कहा।
महापंचायत में मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित पूर्व आईजी एसआर दारा पुरी ने कहा कि सरकार किसानों को घर से बाहर नहीं निकलने दे रही और न तो तो रोने दे रही है। आज संयुक्त किसान मोर्चा संपूर्ण भारत बंद है। उन्होंने किसानों से कहा कि जब तक सरकार के ऊपर दबाव नहीं बनाओगे तब तक सरकार आपकी नहीं सुनेगी सरकार किसानों का आंदोलन खत्म करना चाह रही है अगर ये आंदोलन आज खत्म हो गया तो आप आंदोलन कभी नहीं कर पाओगे। संविधान में किसानों को शांति पूर्ण प्रदर्शन करने का अधिकार है इसलिए धरने को सफल बनाओ। अपने हक के लिए सरकार से लड़ो तभी गन्ना भुगतान होगा और उचित गन्ने का समर्थन मूल्य मिलेगा।
जिला अध्यक्ष श्रीकृष्ण वर्मा ने कहा कि बजाज हिंदुस्तान शुगर लिमिटेड गोला के आगे प्रशासनिक और गन्ना अधिकारी बौने साबित हो रहे हैं क्योंकि किसानों से हुए समझौते के बावजूद बजाज मिल अधिकारियों ने इस पिराई सत्र का एक पर्ची का भी भुगतान नहीं किया है। एसडीएम और सरकारी गन्ना विकास समिति के सचिव ने मिल अध्यासी को भुगतान न होने पर पत्र लिखकर जवाब मांगा है। बजाज चीनी मिल अध्यासी को लिखे पत्र में कहा है की 8 मार्च को राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन श्रीकृष्ण वर्मा सहित अन्य पदाधिकारियों, उपजिलाधिकारी, पुलिस क्षेत्राधिकारी, कोतवाल और पत्रकारों की मौजूदगी में होली से पूर्व प्रत्येक किसान की एक पर्ची का भुगतान 20 मार्च तक करने की सहमति दी थी, किंतु गन्ना पेराई सत्र समाप्त हो गया भुगतान नहीं हो सका है।
होली जैसे महत्वपूर्ण त्योहार मनाए जाने में किसानों को आर्थिक संकट का सामना करना पड़ रहा है। इससे गुस्साए राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन जिला अध्यक्ष श्रीकृष्ण वर्मा ने 21 मार्च से अपने गांव अजान में आमरण अनशन शुरू किया है। उपजिलाधिकारी अखिलेश यादव ने अपने द्वारा लिखे पत्र में चीनी मिल अध्याशी को यह स्पष्ट निर्देश दिया है की किसानों को एक प्रति का भुगतान आख्या प्रेषित करें। वहीं गन्ना विकास समिति सचिव नंदलाल ने अपने पत्र में अध्यासी से 24 घंटे में स्पष्टीकरण मांग कर यह लिखा की भुगतान क्यों नहीं किया गया और यदि कोई अप्रिय घटना घटती है तो इसका पूर्ण उत्तरदायित्व मिल अध्यासी एवं प्रशासन का होगा। उन्होंने कहा कि बजाज ग्रुप की चीनी मिलों ने उपजिलाधिकारी और गन्ना सचिव के आदेश का अनुपालन न कर उत्तर प्रदेश वेक्यूम पेन शुगर फैक्ट्री लाइसेंस इन अंडर 1969 की धारा 3/1 के अंतर्गत दिए गए लाइसेंस की धारा 11 का उल्लंघन किया है जो दंडनीय अपराध है। लाइसेंस में यह प्रावधान है की लाइसेंसी गन्ना आयुक्त राज्य सरकार या शासकीय अधिकारी के आदेश निर्देश का पालन करेगा। लाइसेंस इन आडर के उपवध 8 की वर्णित व्यवस्था अनुसार आवश्यक बस्तु अधिनियम 1955 की धारा 3/7 के अंतर्गत दंडनीय अपराध है। इसके साथ ही उत्तर प्रदेश गन्ना आपूर्ति विनियम अधिनियम 1953 की धारा 17 एवं 20 के अंतर्गत भी अपराध है। इसलिए बजाज चीनी मिल गोला के विरुद्ध मुकदमा दर्ज किया जाना चाहिए। फिलहाल गन्ना भुगतान को लेकर पहुंचे उपजिलाधिकारी गोला अखिलेश यादव, पुलिस क्षेत्राधिकारी रविंद्र वर्मा मौके पर पहुंचे और किसानों से वार्ता की पर कोई सार्थक निर्णय नहीं निकल सका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *