Gonda News:बसपा के रमेश चन्द्र गौतम व मसूद आलम खां पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलपिता की पुष्टि होने पर निष्काषित

गोण्डा से बसपा के रमेश चन्द्र गौतम व मसूद आलम खां   पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलपिता की पुष्टि होने पर निष्काषित सपा में जाने के थे आसर 

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। विधायक रमेश चंद्र गौतम व मसूद आलम खां को पार्टी में अनुशासनहीनता करने व पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त होने के कारण उन्हें बसपा से निकाल दिया गया है। इसकी पुष्टि बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष मनोज कुमार कनौजिया ने की है।बिना पार्टी के अनुमति के किसान बिल का विरोध जताते हुए मसूद आलम खां उपवास पर बैठे थे।  

बताते चले कि मंगलवार को जिले के दो बसपा के बडे  नेताओ को  पार्टी से निष्कासित कर दिया है जिसमें  पूर्व विधायक रमेश चन्द्र  गौतम एवं  मसूद आलम खान को  बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है।बहुजन पार्ट के जिला अध्यक्ष मनोज कुमार कनौजिया ने  दोनों पर घोर अनुशासनहीनता का आरोप एवं पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने का आरोप लगाया है पार्टी ने यह भी निष्कासन पत्र में दर्शाया है कि दोनों को कई बार अगाह भी किया गया लेकिन उसके बावजूद दोनों लोग पार्टी विरोधी गतिविधियों में संलपिता शिकायत के बाद जांच में पायी गयी उसके उपरांत निष्कासन की कार्यवाही की गयी है।सूत्रो  की माने तो  लोकसभा चुनाव के बाद से हाशिए पर थे चेतावनी के बाद भी दोनों में नहीं सुधार दोनों नेताओं के समाजवादी में जाने के आसार दिखायी दे रहे थे। 

मसूद आलम खां बिना पार्टी के दिशा निर्देश के किसान बिल का विरोध जताते हुए उपवास पर बैठे थे यह आग में घी का काम किया है। 

रमेश चंद्र गौतम डिक्सिर (अब तरबगंज) से वर्ष 2007 में बसपा से विधायक चुने गए थे। इसके बाद वह 2012 व 2017 में मनकापुर विधान सभा सीट से बसपा से चुनाव लड़े। इतना ही नहीं, बहराइच के बलहा विधान सभा सीट पर वर्ष 2019 में हुए उपचुनाव में बसपा ने उन्हें अपना उम्मीदवार बनाया था। रमेश गौतम ने बताया कि वह वर्ष 1989 से बसपा कार्यकर्ता हैं। 12 साल वह बसपा के जिलाध्यक्ष रहे। इसके अलावा कई मंडलों के जोनल कोऑर्डिनेटर का दायित्व बसपा में उन्हें मिला था। रमेश गौतम ने बताया कि बसपा से निष्कासित किया जाना राजनीतिक षड्यंत्र है। वह बसपा के वफादार थे और यदि बहनजी ने चाहा तो रहेंगे भी। बहनजी ने जो आदेश दिया है उसका पालन होगा।


रमेश गौतम जिले सहित मण्डल के बसपा के कदवार नेताओं में गिनती है तो वही मसूद आलम खां भी काफी चर्चित लोगों में से है कटरा विधान सभा  से 2017 में बसपा के टिकट पर अपना भाग्य अजमा चुके है लोक सभा का चुनाव भी गोण्डा संसदीय सीट से लड चुके है दोनों को बाहर का रास्ता दिखाये जाने के बाद बसपा को इनकी भरपाई कर पाने में लोहे के चने चबाने पडेगे। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *