Lakhimpur Kheri News:गोला चीनी मिल में पूजन अर्चन के पश्चात पेराई सत्र का हुआ शुभारम्भ

गोला चीनी मिल में पूजन अर्चन के पश्चात पेराई सत्र का हुआ शुभारम्भ
एन.के.मिश्रा 
गोला गोकर्णनाथ (लखीमपुर खीरी)। बजाज हिंदुस्थान शुगर लिमिटेड चीनी मिल गोला में वैदिक मंत्रोच्चार एवं हवन पूजन के साथ केन कैरियर में गन्ना डालकर पेराई सत्र 2021-22 का शुभारंभ किया गया।
     चीनी मिल के पेराई सत्र के कुशल संचालन हेतु यूनिट हेड ओमपाल सिंह ने मिल अधिकारियों के साथ शिव मंदिर, नीलकंठ हनुमान मंदिर, मंगला देवी मंदिर एवं श्री लक्ष्मी नारायण मंदिर में विधि विधान से पूजन-अर्चन किया। मंदिर के पुजारी दयानंद पांडेय ने विधि विधान से हवन पूजन कराया। इस अवसर पर मुख्य अतिथि उपजिलाधिकारी अविनाश चंद्र मौर्य, गोला विधायक के अनुज धर्मेंद्र गिरि (मोंटी), जोनल हेड अवधेश कुमार गुप्ता, यूनिट हेड ओमपाल सिंह, अध्यक्ष गन्ना विकास समिति सुरेश चंद्र वर्मा के साथ बैलगाड़ी का पूजन कर केन कैरियर में अन्य अधिकारियों के साथ गन्ना डालकर पेराई सत्र का शुभारंभ किया। प्रथम बैलगाड़ी मालिक सुरेश कुमार भीखमपुर, प्रथम ट्राली अशोक कुमार बांसगांव, प्रथम ट्रक चालक मोहम्मद अहमद का तिलक लगाकर, फूल माला पहनाकर व साल मिठाई एवं दक्षिणा उपहार स्वरूप देकर स्वागत किया।
 इस अवसर पर सहकारी गन्ना विकास समिति के अध्यक्ष सुरेश चंद्र वर्मा, सचिव नंदलाल, ज्येष्ठ गन्ना विकास निरीक्षक आशुतोष मधुकर, समिति के पूर्व अध्यक्ष आशीष सिंह, संचालक राजीव शुक्ला, विश्वनाथ सिंह, अमनदीप सिंह संधू, अजीत पांडेय, मोनू गिरि, विपिन मिश्रा, सचिन सिंह सहित क्षेत्र के तमाम किसान, नगर के वरिष्ठ नागरिक एवं चीनी मिल के अधिकारी एके पांडेय, आरके मिश्र आदि अधिकारी कर्मचारी श्रमिक यूनियन के पदाधिकारियों आदि ने हवन पूजन में भाग लिया। पूजन एवं हवन के पश्चात उपस्थित सभी लोगों को प्रसाद वितरित किया गया।
किसानों ने बकाया भुगतान को लेकर केन कैरियर के अंदर बैठकर किया धरना प्रदर्शन।
गन्ना भुगतान को लेकर लगातार किसानों में आक्रोश बढ़ता जा रहा है। हालांकि गोला विधायक  अरविंद गिरि के अथक प्रयासों से मिल ने लिखित रूप में माह नवम्बर के अंत तक भुगतान करने की बात कही है। किन्तु गन्ना भुगतान न होने के कारण राष्ट्रीय किसान मजदूर संगठन के जिलाध्यक्ष श्रीकृष्ण वर्मा के नेतृत्व में किसानों ने गन्ना केन कैरियर के अंदर बैठकर धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया। जिसके बाद मिल अधिकारियों को शुरू की गई पेराई कुछ देर के लिए बन्द करनी पड़ी। मिल के अधिकारियों के आश्वासन के पश्चात किसान बाहर निकले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *