Lakhimpur- Kheri-News: सौतेले चाचा ने छात्र नेता की गोली मारकर हत्या कर दी गिरफ्तार, मृतक लखनऊ विश्वविद्यालय में छात्र नेता था

एन.के.मिश्रा

गोलागोकर्णनाथ (लखीमपुर-खीरी)। बीती देर रात नगर के मोहल्ला लक्ष्मी नगर कॉलोनी निवासी एक युवक की उसके सौतेले चाचा ने गोली मारकर हत्या कर दी। घटना पुलिस चौकी नानक से महज 50 मीटर की दूरी पर घटित हुई। घटना के समय चौकी पर ताला लटकता मिला। जिसके चलते गुस्साएं युवाओं ने रात में कोतवाली का घेराव कर दिया।

जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा। गौरतलब यह है कि घटना के महज बीस मिनट पूर्व कुलदीप बाजपेई द्वारा उल्टा  एनसीआर दर्ज करवाना पुलिस की भूमिको को संदिग्ध साबित करता है।     बताते चलें कि मोहल्ला लक्ष्मी नगर निवासी राम राखन बाजपेई के पुत्र कुलदीप बाजपेई ने राम राखन बाजपेई के पौत्र (अपने सौतेले भतीजे) अमन बाजपेई पुत्र विजय बाजपेई की गोली मारकर उस समय हत्या कर दी। जब वह खाना खाकर बाहर सड़क पर टहल रहा था। घटना के बाद अमन बाजपेई के मित्र व परिजन चौकी पहुंचे पर घटनास्थल से महज चंद कदमों की दूरी पर स्थित चौकी पर रात में ताला लटकता पाया गया। मोहल्ले के लोगों में गोली चलने से अफरा-तफरी मच गई किन्तु गोली की आवाज 50 कदम दूर नानक पुलिस के कानों तक नही पहुंची। जिसके बाद गुस्सायें मृतक के दोस्तों ने कोतवाली का रात में घेराव किया। जिसके बाद पुलिस हरकत में आई और मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पीएम के लिए भेजा।

शुक्रवार को दोपहर लगभग दो बजे शव पीएम के बाद गोला लाया गया। जिसके बाद शव का अंतिम संस्कार किया गया। दुखद घटना सुनकर मृतक परिवार को सांत्वना देने के लिए नगर व दूर दराज से लोगों का आना जाना लगा रहा।  परिजनों के मुताबिक कुलदीप बाजपेई का गुरुवार को अपने पिता राम राखन बाजपेई से पैसों को लेकर कहासुनी हो गई  जिसके चलते पुत्र पिता पर हमलावर हो गया। तभी मौके पर मौजूद राम राखन बाजपेई के पोते अमन बाजपेई ने जैसे तैसे कर बाबा को अपने सौतेले चाचा की गिरफ्त से छुड़ाया। जिससे उसका सौतेला चाचा कुलदीप बाजपेई बहुत क्रोधित होकर अपने पिता से यह कहता हुआ चला गया कि जो भी व्यक्ति तुम्हें बचाएगा उसे मै जान से मार डालूंगा। जिसके चलते उसने रणनीति बनाते हुए पहले कोतवाली गोला में एक तहरीर देकर एनसीआर दर्ज कराई और पुलिस से मिलकर उसके लगभग 20 मिनट पश्चात ही घटना को अंजाम दे दिया। पुलिस ने यदि दर्ज प्राथमिकी रिपोर्ट को गम्भीरता से लिया होता तो शायद एक मां की आंखों का तारा आज जीवित होता। पुलिस ने लम्बी चौड़ी कहानी गढ़ते हुए मुकदमें में अपनी पीठ थपथपाने का पूरा प्रयास किया है। पुलिस ने धारा 302 तथा 3/25 आर्म्स एक्ट के तहत मुकदमा पंजीकृत कर अभियुक्त को गिरफ्तार कर न्यायालय भेजा है।
                                                                     

पिता ने पुत्र को नम आंखों से दी मुखग्नि 

 लखनऊ विश्वविद्यालय छात्रसंघ नेता अमन बाजपेई की हत्या की खबर जब लखनऊ उसके दोस्तों को हुई तो रात से उसके दोस्तों का आना शुरू हो गया देर रात तक सैकड़ों की संख्या में लखनऊ विश्वविद्यालय के छात्र अपने साथी के अन्तिम दर्शनों के लिए दौड़ पड़े। अमन बाजपेई का पार्थिव शरीर जब पोस्टमार्टम होकर उसके आवास गोला पहुंचा तो उसके अन्तिम दर्शनों के लिए लोगों का तांता लग गया। वहां उपस्थित हर व्यक्ति की आंखें नम हो गईं। मृतक के पिता ने अपने पुत्र को भारी मन से दी मुखाग्नि।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *