Lakhimpur Kheri News: डग्गामार वाहनों में भर रहे ऐसी सवारियां कि सांस लेने में हो रही दिक्कत

गौरीफंटा बॉर्डर पर तस्कर व दलाल सवारियों की आड़ में कर रहे मानव तस्करी

एन.के मिश्रा
लखीमपुर खीरी। इंडो नेपाल के गौरीफंटा बॉर्डर पर संबंधित विभाग के नजरों के सामने डग्गामार वाहन क्षमता से तीन गुना अधिक नेपाली सवारियों भेड़ बकरियों की तरह भरकर अन्य राज्यों में पहुंचा रहे हैं लेकिन इन्हीं तस्कर व दलालों को यह नहीं मालूम कि पूरे विश्व में गोविंद 19 का प्रकोप लगातार बढ़ता ही जा रहा है लेकिन जिस तरीके से करुणा महामारी को दरकिनार करते हुए या अवैध धंधा बॉर्डर पर किया जा रहा है उससे तमाम राजू और बॉर्डर के नजदीक शहरों पर कोविड-19 का संक्रमण फैलने का खतरा मंडराने लगा एक तरफ ठंड ने विकराल रूप धारण कर लिया है तो वहीं दूसरी तरफ बॉर्डर पर करुणा के नियम व कानून को धाता दिखाकर नेपाली सवारियों की आड़ में गैरकानूनी कामों को अंजाम दे रहे हैं और यह किसी एक के करने कहने से नहीं हो रहा जबकि इसमें बड़े बड़े तस्कर और तथाकथित भी शामिल जिसके इशारे पर बॉर्डर पर अवैध धंधों का खेल खेला जा रहा हैबात करते हैं बसों में बैठी सवारियों की जो यात्रियो के बीच शारीरिक दूरी तो तार-तार हो ही रही है। मास्क और सैनिटाइजेशन पर भी कोई ध्यान नहीं है। इतना ही नहीं ये डग्गामार वाहन कोरोना महामारी के दौर नेपाली सवारियों से जबरन वसूली कर जमकर धन उगाही का कार्य कर रहे हैं इन दिनों प्राइवेट वाहनों का संचालन बिल्कुल भी तय समय से नहीं किया जा रहा है मन मुताबिक डग्गामार वाहनों का संचालन नियमों को ताक पर रखकर किया जा रहा है। कोरोना काल में डग्गामार वाहन चंद पैसों के लालच में कोरोना संक्रमण को बढ़ावा दे रहे हैं। जिन स्थानों से डग्गामार वाहन का संचालन किया जा रहा है, वहां न तो वाहनों को सैनिटाइज्ड करने की कोई व्यवस्था है और न ही यात्रियों को सैनिटाइज्ड किया जा रहा है। बगैर सैनिटाइजेशन डग्गामार वाहन सड़कों पर बेरोकटोक दौड रहे हैं। इतना ही नहीं वाहनों में क्षमता से तीन गुना अधिक सवारियों को बैठाया जा रहा है। अधिकांश यात्री बगैर मास्क ही डग्गामार वाहनों में बैठ रहे हैं। गौरीफंटा बॉर्डर पर खड़े होने वाले डग्गामार वाहनों में सवारियों को खचाखच भरा जा रहा है। अलग-अलग क्षेत्रों से एक जगह जुटने वाले लोग कब कोरोना विस्फोट का कारण बन जाएं, इसका अंदाजा भी प्राइवेट वाहन चालक नहीं लगा पा रहे हैं।

वहीं, रोडवेज बस निगम के किराए से कम किराया बताकर यात्रियों को रोककर रोडवेज बस निगम को आर्थिक नुकसान पहुंचा रहे हैं। इसके साथ ही चेकिग के नाम पर भ्रमित कर अतिरिक्त धन भी वसूला जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *