Gonda News:जिले में खुलने थे 99 धान क्रय केन्द्र नहीं खुला ताला, प्रशासनिक दावे की अधिकारी निकाल रहे है हवा

एक अक्टूबर डीएम की समीक्षा बैठक में 1 नवम्बर से क्रय केन्द्रो की खुलने की बात 

19 अक्टूबर को आयुक्त की मण्डलीय समीक्षा बैठक में 15 अक्टूबर से 28 फरवरी तक चलगे धान क्रय केन्द्र 


15 से खुलने थे धान क्रय केन्द्र 1 9 अक्टूबर तक तय नही हो पायी थी खरीददारी की  योजना 

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। शासन कृषि नीति व किसानों के हितों के दावे चाहे जितने कर ले हर वर्ष की भांति इस बार भी समस्याये जैसी की तैसी बनी हुई है जितने अधिकारी उतने धान क्रय केन्द्रों के खुलने के दावे किसान की गाढ़ी कमाई औने पौने दामो में बिकने के लिए मजबूर जिले का धान क्रय करने का लक्ष्य 61 हजार मीट्रिक टन लेकिन अभी नही केन्द्रो के खुले ताले अधिकारियों के दावे  21 टन  खरीददारी 99 केन्द्रो पर हुई है। 

बताते चले कि जनपद गोण्डा कागजी आंकडो में महारात हासिल कर चुका है खाद्यान्न घोटलो कि जांच वर्षो से अभी पुरी नही हुई है यहा आकडो का खेल चलता है। धान क्रय केन्द्रों के खुलने को लेकर 1 अक्टूबर को बैठक कर डीएम डाक्टर नीतिन बंसल जिले में विभिन्न संस्थाओं द्वारा 73 केन्द्रो के खुलने की मंजूरी होती है लेकिन खरीददारी 1नम्बर से होने की बात का आदेश होता है। 

आयुक्त देवीपाटन मण्डल एसएमवी रंगाराव मण्डलीय समीक्षा बैठक 19 अक्टूबर को करते है जिसमें गोण्डा में 56 धान क्रय केन्द्र खोलने की बात कहते साथ यह भी कहा जाता है कि डीएम के स्तर पर  43 अतिरिक्त धान क्रय करने  केन्द्र बढाने का प्रस्ताव विचाराधीन है। 

तथा धान क्रय का लक्ष्य 61 हजार मीट्रिक टन निर्धारित किया गया है।

जिसके लिए खाद्यय विभाग,भारतीय खाद्य निगम,यूपीपीसीएफ,यूपीसीयू,यूपीएसएस,यूपी एग्रो ,मंडी परिषद् तथा एनसीसीएफ सहित करीब आठ क्रय संस्थाओं द्वारा धान क्रय किया जाना है। जिसमे जिले की 15राइस मिलो को भी धान क्रय करने है। 15 अक्टूबर से 28  फरवरी तक खरीददारी होने है। 

बावजूद जमीनी धरातल पर अभी तक शून्य दिखाई पड़  ब्लाक इटियाथोक क्षेत्र में किसान भाइयों की सुविधा के लिए साधन सहकारी समिति लिमिटेड परसिया बहोरीपुर, बिरमापुर,गोशेन्द्रपुर, केंद्रीय उपभोक्ता भंडार लिमिटेड नरौरा भर्रापुर, क्रय-विक्रय हो सहकारी समिति बड़गांव-गोंडा परसिया बहोरीपुर में धान की खरीद के लिए केंद्र खोले गए हैं। बुधवार बुधवार को केन्द्रो के  पड़ताल में  गोशन्द्रपुर साधन सहकारी समिति पर ताला लटकता मिला। गांव अयाह निवासी किसान देवी प्रसाद ने बताया कि करीब एक माह पहले सचिव आए थे। तभी से केंद्र पर कोई झांकने तक नहीं आया। जरूरतमंद किसान आते हैं, और लटका हुआ ताला देखकर पूछताछ करने के बाद निराश होकर लौट जाते हैं। वहीं परसिया बहोरीपुर केंद्र सिर्फ कागज पर खुले मिले।जबकि केंद्र के प्रभारी शिवपाल तिवारी नदारद मिले।मौके पर मौजूद एक प्राइवेट कर्मचारी ने बताया, कि 1000 बोरा पहुंचा है। केंद्रों पर करीब 10 दिन बाद ही धान की आवक शुरू होगी।

मनकापुर तहसील क्षेत्र के मछली गाँव,अशरफपुर,मनकापुर के केन्द्रो में अभी ताले ही लगे है।यही हाल करनैलगंज व तरबगंज  तहसीलो का है। जहा पर किसान नही समझ पा रहे हैं कि धान कहा बेचने ले जाय न बैनर है कर्मचारी केन्द्रो पर ताले के शिवा कुछ नही है। 

डिप्टी आरएमओ क्या कहते है

 डिप्टी आर एम ओ लाल बहादुर गुप्ता ने बताया कि जिले में कुल 99 केन्द्र बनाये गये है जिसमें मात्र अभी तीन केन्द्र मण्डी समिति के विपणन विभाग,पीसीओ,भारतीय खाद्य निगम के केन्द्रो पर खरीददारी की बात बताते हुए मात्र 21 टन खरीददारी की बात कही है। उनसे यह पूछने पर की सारे केन्द्रो पर ताले लटक रहे हैं तो उनके द्वारा यह कहा गया है कि मजिस्ट्रेट व नोडल अधिकारी लगाये गये है। 

एडीएम क्या कहतें है 

एडीएम राकेश सिंह ने बताया कि 99 केन्द्रो पर धान की खरीदारी होनी है जिसमें 15 केन्द्रो पर खरीददारी शुरू हो गयी है जब उनसे यह कहा गया कि डिप्टी आरएमओ ने मात्र तीन केन्द्रो के बारे में बताया है खरीददारी की बात तो उन्होंने कहा पता करना पडेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *