Gonda Colonelganj News:लाखों लोगों की आस्था से जुड़ा गुरु नरहरि दास गोस्वामी तुलसीदास मंदिर की बिजली कटी,एक्सईएन के आदेश के बाद भी सप्लाई बहाल नही

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

करनैलगंज(गोंडा)। 20 वर्ष पहले तत्कालीन डीएम नवनीत सहगल ने मंदिर को बिजली मुहैया कराया और एक सप्ताह पहले जेई ने बिजली का कनेक्शन कटवा दिया। मंदिर में अंधेरा छाया है। करनैलगंज क्षेत्र के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल पसका संगम घाट के निकट स्थित गुरु नरहरि दास आश्रम के गोस्वामी तुलसीदास मंदिर की बिजली को बिजली विभाग के अधिकारियों ने बिना किसी सूचना के ही काट दिया। करीब एक हफ्ते से मंदिर में अंधेरा छाया हुआ है। जबकि बिजली विभाग के एक्सईएन के आदेश के बावजूद भी बिजली नहीं जोड़ी गई। लाखों लोगों की आस्था से जुड़ा गुरु नरहरि दास गोस्वामी तुलसीदास मंदिर में करीब 20 वर्ष पहले तत्कालीन डीएम नवनीत सहगल ने बिजली का कनेक्शन जोड़वाया था। बिजली की लाइन विभाग द्वारा ही जोड़ी गई थी। जिसे एक सप्ताह पूर्व परसपुर विद्युत उपकेंद्र के जेई ने अपने कर्मचारियों के संग मिलकर कनेक्शन को काट दिया। जबकि धार्मिक स्थलों पर प्रकाश व्यवस्था के लिए बिजली नहीं काटी जानी चाहिए। उसके बावजूद भी बिजली विभाग के कर्मचारियों ने कनेक्शन काट दिया और एक सप्ताह के भीतर दो बार एक्सईएन करनैलगंज द्वारा परसपुर के बिजली कर्मचारियों को मंदिर के बिजली व्यवस्था बहाल करने के निर्देश दिए गए। उसके बावजूद भी बुधवार तक लाइन नहीं जोड़ी गई। मंदिर के पुजारी सूर्यमणि एवं महंत तुलसीदास ने बताया कि रामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास के गुरु नरहरि दास के आश्रम में उनका मंदिर जो पौराणिक स्थल भी है। यहां करीब 20 वर्ष पहले बिजली लगवाई गई थी। जिसे बिना सूचना दिए हैं पर उनके बिजली कर्मचारियों ने काट दिया। जिससे मंदिर में एक हफ्ते से अंधेरा छाया हुआ है। मंदिर में जीर्णोद्धार का काम चल रहा है। उसमें भी दिक्कतें आ रही हैं। दूसरी तरफ एक्सईएन प्रदुम त्यागी का कहना है कि परसपुर के बिजली कर्मचारियों को मंदिर की लाइन जोड़ने के निर्देश दिए गए थे। बुधवार को उन्होंने बताया कि तत्काल मंदिर की लाइन जुड़वा दी जा रही है। यह भी पता लगाया जा रहा है कि किसके द्वारा और क्यों लाइन काटी गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *