Gonda News:पूर्व प्रधान, सचिव व तकनीकी सहायक के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। कोतवाली इटियाथोक  पुलिस ने निलंबित महिला प्रधान, सचिव व तकनीकी सहायक के खिलाफ, धोखाधड़ी व गबन का मुकदमा दर्ज किया है। विभागीय जानकारों की मानें, तो मनरेगा में कराए गए कार्य के सापेक्ष अधिक भुगतान के मामले में यह गाज गिरी है। खबर है, यह कार्रवाई उच्च न्यायालय के निर्देश पर हुआ है। 
मामला इटियाथोक ब्लॉक अंतर्गत गांव पंचायत बेलभरिया से जुड़ा है। गांव के राज नारायण वर्मा ने लोकायुक्त कार्यालय में शिकायत दर्ज कराते हुए मनरेगा के तहत घोर अनियमितता व गड़बड़ी का आरोप लगाया था। इस पर मामले को गंभीर मानते हुए, जांच परियोजना निदेशक डीआरडीए व उपायुक्त श्रम एवं रोजगार से कराई गई। जांच के दौरान विशुही नदी पुल के समीप तालाब सुंदरीकरण के नाम पर 506450/-रुपए का भुगतान पाया गया। मूल्यांकन के दौरान जांच टीम ने पाया के परियोजना पर 220861/-रुपए का अधिक भुगतान हुआ है। वहीं पौधारोपण के नाम पर 12600/-रुपए शासकीय धन का दुरुपयोग पाया गया। जांच कमेटी ने बच्चा लाल तिवारी की बोरिंग से जिलेदार तिवारी के कुआं तक मिटटी व खड़ंजा कार्य में दो लाख आठ हजार रुपए से अधिक भुगतान की गड़बड़ी भी पाई थी। कुल मिलाकर तीन परियोजनाओं पर चार लाख सैतालीस हजार रुपए के घोटाले में प्रधान, पंचायत सचिव व तकनीकी सहायक दोषी पाए गए थे। जिस पर तत्कालीन जिलाधिकारी ने महिला ग्राम प्रधान रजकला का वित्तीय व प्रशासनिक अधिकार सीज करते हुए, गांव में त्रिस्तरीय कमेटी गठित कर दी थी। शिकायतकर्ता ने मामले में एफ आई आर दर्ज कराने की मांग को लेकर हाईकोर्ट में न्याय की गुहार लगाई थी। मामले में हाईकोर्ट के दो जजों की बेंच ने सुनवाई करते हुए प्रधान सचिव व तकनीकी सहायक के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत कराने के आदेश पुलिस अधीक्षक गोंडा को दिए थे। इसी अनुक्रम में कोतवाली इटियाथोक पुलिस ने सभी आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित सुसंगत धाराओं में मुकदमा पंजीकृत किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *