Gonda News:जिलाधिकारी ने भूलेख कार्यालय का किया औचक निरीक्षण, 15 साल से जमे चेनमैन को तत्काल हटाने के दिए आदेश

विभागीय कार्यवाहियां लम्बित मिलने पर अपर उपजिलाधिकारी-प्रथम से स्पष्टीकरण तलब

राम नरायन जायसवाल

 गोण्डा। जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल ने शुक्रवार को कलेक्ट्रेट स्थित भूलेेख कार्यालय का औचक निरीक्षण किया। निरीक्षण के लिए अचानक पहंुचे जिलाधिकारी ने वहां पर मौजूद कर्मचारियों से उनका परिचय तथा कार्यालय में उनकी तैनाती की जानकारी ली तो ज्ञात हुआ कि चैनमैन सुरेन्द्र कुमार अपनी नियुिुक्त वर्ष 2004 से एक ही कार्यालय  में एक ही पटल पर विगत 15 वर्षों से कार्यरत है। जिलाधिकारी ने मुख्य राजस्व अधिकारी को आदेश दिए कि तत्काल कर्मचारी का स्थानान्तरण अन्यत्र किया जाय। इसी प्रकार गजराज यादव लेखपाल विगत 10 वर्षों से कार्यालय में सम्बद्ध हैं, जिलाधिकारी ने उन्हें भी हटाने के निर्देश दिए।

इसके उपरान्त जिलाधिकरी ने अभिलेखों की पड़ताल की। निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी ने गार्ड फाइल, जीपीएफ पास बुक, सर्विस बुक, आॅडिट आपत्तियों की स्थिति, दुर्घटना बीमा के प्रकरणों के निस्तारण की स्थिति, खतौनियों की स्थिति, पटलवार अभिलेखों का दुरूस्तीकरण आदि केे बारे में गहन पूछताछ की।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि सभी पटलों के कर्मियों के पटल पर उनके नाम व पदनाम की पट््िटका लगाई जाय। सभी आलमारियों पर उसमें संरक्षित अभिलेख के अनुसार आलमारी के ऊपर नाम लिखा जाय। सेवा निवृत्त कर्मी अयोध्या प्रसाद व नफीसुल हसन की फाइलें अभिलेखागार में अब तक दाखिल न करने पर फटकार लगाई है। विभागीय कार्यवाहियों की फाइल के निरीक्षण में ज्ञात हुआ कि वर्ष 2018 से लेकर अभी तक लेखपालों के विरूद्ध विभागीय कार्यवााहियों की फाइलें अनिस्तारित हैं। इसी प्रकार 03 राजस्व निरीक्षकों के खिलाफ भी विभागीय कार्यवाही लम्बित हैं। जिलाधिकारी द्वारा फरवरी 2020 में लेखपाल शारदा पाण्डेय के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही हेतु अपर उपजिलाधिकारी प्रथम को जांच कर कार्यवाही के आदेश दिए गए थे परन्तु अभी तक विभागीय कार्यवाही नहीं की गई। इस पर जिलाधिकारी ने अपर उपजिलाधिकारी-प्रथम से स्पष्टीकरण तलब किया है।

जिलाधिकारी ने डाटा उपभोग के सम्बन्ध में ब्यौरा न देने और डाटा हेतु उपलब्ध बजट का सरेन्डर न करने पर सभी तहसीलों के उपजिलाधिकारियों से स्पष्टीकरण तलब करते हुए निर्देश दिए हैं कि जवाब न आने पर सम्बन्धित एसडीएम के विरूद्ध विभागीय कार्यवाही की चेतावनी दी है। इसके अलावा दुर्घटना बीमा योजना के तहत लम्बित सभी प्रकरणों को एक माह के अन्दर निस्तारित करने के आदेश दिए हैं। निरीक्षण के दौरान डीएम ने कर्मचारी ननकू प्रसाद की जी.पी.एफ पास बुक व सेवा पुस्तिका का अवलोकन किया। इसके अतिरिक्त उन्होंनें आॅन लाइन वरासत, लेखपालों के पासवर्ड सेट होने की स्थिति आदि का निरीक्षण किया।

निरीक्षण के दौरान सी.आर.ओ. आर0आर0 प्रजापति, कलेक्ट्रेट के वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी नईम अहमद, नाजिर सुनील कुमार, ओएसडी शिवराज शुक्ला सहित अन्य अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *