Gonda News:छपिया थाना के एक गांव से सात फेरे लेने के बाद दुल्हन प्रेमी के साथ फरार, बाराती करते रहे घंटो इंतजार

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। जिले के छपिया थाना क्षेत्र के एक गांव में उस समय हडकम्प मच गया जब गांव में आई एक बारात में  वैवाहिक रस्मो को पूरा होने के उपरांत विवाहिता समस्त गहने समेत प्रेमी के संग फूरर हो गयी,बाराती उसके बाद भी घंटो आस लगाये बैठे रहे हो सकता है वापस आ जाये। बताते चले जनपद के छपिया थाना क्षेत्र के बभनान चौकी क्षेत्र के अन्तर्गत एक गांव में बृहस्पतिवार को बलरामपुर जिले के दतौली क्षेत्र से चौहान बिरादरी की बारात आयी थी शादी लाक डाउन शुरू होने के पहले से तय थी लेकिन बीच में कोरोना  के चलते लाक डाउन में शादी नही हो पायी थी लाक डाउन समाप्त होने पर वर पक्ष व कन्या पक्ष दोनों की सहमति से 26 नवम्बर को शादी होना तय हुआ था। तय तिथि के अनुसार बारात कन्या पक्ष के दरवाजे पर बृहस्पतिवार को पहुंची हिन्दू रीतिरिवाज के अनुसार द्वार चार मंगल गीत सारे रस्म अदायगी का कार्य चलते रहे यहाँ तक की सुबह तीन बजे वैदिक मंत्रों उच्चारण के साथ पंडित ने सात फेरे भी करा दिए। लगभग चार बजे दुल्हन के जोड़े में बहुमूल्य जेवरो से  सजी विवाहिता घर से प्रेमी के संग फूरर हो गयी।परिजनों में अफरा तफरी मच गयी। कुछ देर तो कन्या पक्ष आवाक से हो गये। और यह बात कैसे वर पक्ष को बताते कि लकडी फरार हो चुकी है। लेकिन शादी व सात फेरे के बाद भी कुछ रस्म ऐसी होती है कि वर -कन्या का उपस्थित होने आवश्यक होते है। जिसके लिए बराती बराबर उस कार्य को जल्दी संमपन कराने की बात कर रहे थे जिसको लेकर शुक्रवार को दिन में आठ बजे तक यह बात लड़की वाले छुपाते रहे। लेकिन अततः जब लड़की के आने के सारे प्रयास विफल हो गये तो वर पक्ष को कन्या पक्ष ने सारी घटना के बारे बताया तो लडके पक्ष के होश उड गये और पूरे गांव सहित बारातियो में हडकम्प मच गया। उसके उपरांत दोनों पक्षों में बात शुरू हुई उसके बाद भी यह आस लगाये बराती दस बजे तक कन्या पक्ष के दरवाजे पर जमे रहे कि हो सकता है वापिस आ जाय लेकिन जब वापिस के सारे उम्मीद खत्म हो गया तो मामला बभनान पुलिस चौकी प्रभारी के पास पहुंचा तो चौकी प्रभारी ने कहा आपस मे आप लोग बात कर मामला को निपटाये चौकी पर ही दोनों पक्षों में बात शुरू हुई उसमें यह तय हुआ कि लडके पक्ष के द्वारा लडकी को दिये गये गहने जिसमे  सोने के मटर माला, मारवाड़ी नथनी, मंगलसूत्र और चांदी के पायल, पाय जेब के साथ अन्य सामग्री के एवज में लड़की पक्ष वर पक्ष को देने के लिए जो बाइक लाया था वह दिया जाय अगर दो माह के अन्दर लडकी पक्ष के लोग जेवर लडके पक्ष को ले जाकर वापस कर देते है तो बाइक की  वापसी हो जाएगी अगर ऐसा नही हो पाता है तो लडकी वाले गाडी का पेपर ट्रांसफर कर देगे। उक्त समझौता दतौली बलरामपुर दूल्हे के बडे भाई उजागिर व कन्या पक्ष के झगरू चौहान के बीच होने के बाद बारात बिना दुल्हन के वापस चली गयी। उक्त के समबन्ध में थाना प्रभारी संजय कुमार तोमर ने बताया है कि मामला संज्ञान में आया है दोनों पक्षों ने आपस मे सुलह समझौता कर बारात बिना दुल्हन वापिस चली गयी है लडकी पक्ष या वर पक्ष के द्वारा को तहरीर नही प्राप्त करायी गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *