Balrampur news:बलरामपुर में हाथरस जैसी हैवानियत, छात्रा के साथ गैंगरेप, मरने से पहले मां से बोली, ‘बहुत दर्द है, अब बचूंगी नहीं’दो आरोपी गिरफ्तार

बलरामपुर एसपी ने कहा दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है ,हाथ पैर व कमर तोड़ने वाली बात सही नहीं है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नहीं हुई है

राम नरायन जायसवाल

बलरामपुर।यूपी के हाथरस गैंग रेप की घटना की आग अभी बुझी नही थी कि बलरामपुर में एक छात्रा का अपहरण कर नशीला पदार्थ खिलाकर  दरिन्दों ने  गैंगरेप की घटना को अंजाम देने के बाद हालत बिगड़ने पर रिक्शा पर लादकर  उसे घर छोड़ दिया जिसकी की कुछ घंटों बाद मौत हो गयी। बताते चले कि बलरामपुर के गैसडी कोतवाल क्षेत्र के एक गांव की 22 वर्षीय दलित  छात्रा 29 सितम्बर मंगलवार को दिन करीब दस बजे घर से बी काॅम  में एडमीशन कराने  पचपेडवा के विमला विक्रम  महाविद्यालय के लिए गयी थी लेकिन जब पांच बजे तक घर वापस नही आयी तो परिजनों ने उसकी खोज बीन शुरू की इसी बीच शाम लगभग सात बजे छात्रा को एक रिक्शे  पर लदकर बुरी तरह से घायल करहाते हुए घर पहुंची उसकी शरीर से खुन का स्राव भी हो रहा था जो रिक्शे पर उसके धब्बे प्रत्यक्ष रूप से  दिखाई भी पड रहे थे।परिजनों ने उसकी यह दशा देख उससे जानने की कोशिश की लेकिन वह असहनीय दर्द के चलते  कुछ बताने असमर्थ दिखाई पड रही थी।  

हाथ में लगा था ग्लूकोज चढ़ाने वाला वीगो

गांव के दो डाक्टरों को दिखाने के बाद हालत में सुधार न आने की स्थिति में जैसे ही जिला मुख्यालय पर इलाज करवाने के लिए वे गांव से बाहर निकले तो कुछ दूर जाने के बाद छात्रा की मौत हो गई।परिजनों की माने तो  जब छात्रा घर पहुंची तो कीचड़ से लथपथ थी और उसके हाथ में ग्लूकोज चढ़ाने वाला वीगो लगा था। परिजनों ने जब गांव में पता करने की कोशिश की तो पता चला की गांव के ही एक डाक्टर को गांव के ही (मुसलिम सम्प्रदाय के )एक लड़के ने एक घर में युवती की इलाज के लिए बुलाया था।

 परिजनों ने बताया कि पूछताछ में पता चला कि जब छात्रा पचपेडवा विमला विक्रम महाविद्यालय से घर के लिए निकली   तो गांव के ही 5 से 6 लड़कों ने उनका अपहरण कर लिया और गांव के ही एक घर में ले जाकर गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया। 
जिस रिक्शे पर युवती को घर पहुंचाया गया उसपर खून के घब्बे व रास्ते में उसकी जूती भी पाई गई है। मृतक युवती की मां का आरोप है कि उसकी बेटी के साथ इंजेक्शन लगाकर हैवानियत की वारदात को अंजाम देने के बाद उनकी बेटी का कमर व दोनों टांगों को तोड़कर रिक्शे पर बैठाकर घर भेज दिया गया जिसके बाद वो कुछ भी बोल नहीं पा रही थी। वो सिर्फ इतना कह पाई कि बहुत दर्द है अब मै बचूंगी नहीं।

 गैंगरेप की शिकार पीड़ित दलित छात्रा मेघावी थी और करीब दो साल से पानी नाम की संस्था में कम्युनिटी रिसोर्स पर्सन के पद पर तैनात होकर क्षेत्र के किसानों को आधुनिक खेती करने के लिए जागरूक करने का काम भी करती थी। 30 सितम्बर को घटना की सूचना पाकर पुलिस ने युवती के शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

थाना को0गैसड़ी में युवती के साथ सामुहिक दुष्कर्म व हत्या के प्रकरण में मृतका के भाई की तहरीर पर अभियोग पंजीकृत कर नामजद दोनों अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया है ।

सी एमओ भी पहुंचे पोस्टमार्टम हाउस  

संयुक्त जिला चिकित्सालय स्थित पोस्टमार्टम हाउस में करीब 6 घंटे तक युवती का पोस्टमार्टम 4 डाक्टरों के पैनल ने किया और जिले के सीएमओ को भी पोस्टमार्टम हाउस तक आना पड़ा। देर शाम युवती का शव परिजनों को सौंपा गया। सूत्रों की मानें तो गैगरेप के बाद युवती के अंतरिक एवं बाहरी अंगों में काफी चोटें आई हैं जिसके कारण उसकी मौत हो गई।

एसपी ने क्या कहा 

 पुलिस अधीक्षक देव रंजन वर्मा ने बताया कि मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया है।हाथ व पैर कमर तोडने की बात पोस्टमार्टम रिपोर्ट में इसकी पुष्टि नही हो पायी है  घटना की जांच की जा रही है।

पीडिता के घर पहुंंचे देवीपाटन मन्दिर महन्थ

गैसड़ी मृतक रेप पीड़िता के घर जाकर जिलाधिकारी बलरामपुर, पुलिस अधीक्षक बलरामपुर, और देवीपाटन शक्तिपीठ मन्दिर के महंत योगी मिथलेश नाथ ने अभी तक कि कार्यवाही से अवगत कराया तथा मुवावजा राशि 6 लाख 18 हजार 750 रु का चेक दिया जो आज ही प्रक्रिया पूर्ण होकर पीड़िता की माँ के खाते में धनराशि आ जायेगा।
साथ ही आश्वासन दिया कि त्वरित कार्यवाही की प्रक्रिया से दोषियों को कड़ी सजा दिलवाई जाएगी।

रात मेंं गैग रेप मृत्यका छात्रा का कराया गया दाह संंस्कार

वही भारी पुलिस बल के मौजूदगी मेंं छात्रा का दाहसंंस्कार देर रात करा दिया जिसको लेकर अह चर्चा ही आखिर रात मे क्यो कराया गया दाहसंंस्कार जिसको लेकर राजनीति भी शुरु हो गयी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *