Gonda Mujehna News:गौआश्रय केंद्र रुद्रगढ़ नौसी में चार मवेशियों की मौत व एक गंभीर रूप से घायल,कर्मी नदारद

प्रदेश की प्रथम माडल गौ शाला मृत्यु पडे गौ वंशों को कुत्ते व कौवे नोच नोच अपना नेवाला बना रहे हैं 

उमापति गुप्ता

गोण्डा। मुजेहना  विकास खण्ड के ग्राम पंचायत रुद्रगढ़ नौसी में स्थित प्रदेश की प्रथम माॅडल गौआश्रय केंद्र में सोमवार को चार मवेशी मृत एवं एक गाय गम्भीर रूप से घायव अवस्था में पड़ी मिली।बतादें कि मौके पर आश्रय केंद्र में कोई भी कर्मचारी मौजूद नही मिला।आस पास के लोगों से पता करने पर जानकारी मिली की देखरेख कर रहे लोग हड़ताल किए हुए हैं।

ऐसे में सवाल उठता है की एक ही दिन में चार,पांच पशुओं के मौत की जिम्मेदारी कौन लेगा,क्या जनपद में तैनात अधिकारियों के बस की बात नही की आश्रय केंद्रों  के संचालन की ब्यवस्था को सुधार सकें,यदि नही तो केन्द्रो में कैद करके गायों की हत्या किये जाने का पाप क्यों किया जा रहा है।

एक बात तो तय है की अधिकारियों के ढुलमुल रवैये के चलते सरकार की छवि धूमिल हो रही है साथ जन मानस में सरकार के प्रति आक्रोश की भावना जागृत करने का कार्य किया जा रहा है।इस आश्रय केंद्र में पशुओं की मौत की खबरे सर्वाधिक सामने आई हैं।उसके बावजूद भी वही लोग जिनकी लापरवाही से मौतें हुयी अथवा निरन्तर हो रही हैं उन पर ना तो कार्यवाही का हन्टर चला और ना ही दूसरे लोगों को देखरेख के लिए नियुक्त किया गया।कुल मिलाकर इस दर्दनाक स्थिति का जिम्मेदार कौन है ये जिम्मेदार अधिकारी कैसे तय करेंगे ये सवाल आज तक एक सवाल ही बना है।

मरे हुए गौ वंश को कुत्ते व कौवे नोच नोच अपना नेवाला बना रहे हैं। लेकिन इससे जुड़े लोगों को रहम नही आया रही जब की यह गौ शाला प्रदेश की माडल श्रेणी की गौशाला है। 

इस समबन्ध में मुजेहना ब्लाक के एडीओ पंचायत दिलीप उपाध्याय से चार पशुओं के मौत और मौके से गौ आश्रय केंद्र के गायब कर्मियों के बारे में जानकारी करने पर उनके द्वारा यह बताया गया कि हमको जानकारी नही है दिखवाते है। 

गौ आश्रय के पशुओं की स्वास्थय से समबन्धित देख रेख की जिम्मेदारी पशु चिकित्सालय मुजेहना की पशु चिकित्सालय मुजेहना में तैनात डाक्टर मनोज कुमार से गौ आश्रय केंद्र में चार गायों की मौतों के बारे में जानकारी करने पर उनके द्वारा यह बताया गया कि कोरोना संक्रमित होने के चलते होम क्वाराइनट  है। 

समाज सेवी प्रदीप शुक्ल ने मंडला आयुक्त से उनके ट्यूपर पर मृत्यु पडे गौ वंशों की फोटो भेजी कर केंद्र के बारे में अवगत कराया गया है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *