Lakhimpur Kheri News:किसानों की मजबूरी का फायदा उठाते हुए औने-पौने दाम पर गन्ना खरीद रहे कोल्हू मालिक

वित्तीय वर्ष का भुगतान न होने व चीनी मिल चलने में देरी होने के कारण कोल्हुओं पर घाटे में अपना गन्ना बेंचने को विवश किसान

एन.के.मिश्रा

गोला गोकर्णनाथ (लखीमपुर खीरी)। नगर व उसके आसपास की चीनी मिलों व क्रेसरों के चलने में विलंब होता देख कर गन्ना किसानों ने अपने गन्ने की फसल को कोल्हुओं पर बेचने का सिलसिला शुरू कर दिया है और सुबह से लम्बी-लम्बी लाइनें गन्ना से लदे वाहनों की कोल्हूओं पर लगने लगी हैं। जिससे कोल्हूओं के मालिक किसानों की मजबूरी का फायदा उठाकर मनमाने दर पर गन्ना की खरीद रहे हैं।
गौरतलब हो कि गन्ना किसानों के सामने दीपावली का त्यौहार व बच्चों की शिक्षा के लिए पैसों की अत्यंत आवश्यकता है और चीनी मिलों से गन्ने का  पिछला  भुगतान नहीं मिला है। जिसके चलते वह मजबूर होकर घाटे में अपना गन्ना कोल्हूओं पर बेचने के लिए विवश हैं। कोल्हूओं के मालिकानों ने किसानों की मजबूरी का फायदा उठाकर गन्ना को 180 रुपये प्रति कुंटल की दर पर खरीद कर रहे हैं और किसानों के गन्ने से लदे वाहनों का सिलसिला कोल्हुओं पर लगातार बढता जा रहा है। क्षेत्र के ग्राम जलालपुर, बेलहरी व सिकंदराबाद में कोल्हुओं की भरमार है। अमूमन कोल्हूओं के मालिक मंडी समिति व जीएसटी के नाम पर खिलवाड़ कर  सरकार को लाखों का चूना लगाने से कोई परहेज नहीं करते हैं। वह अलग की बात है, कुछ कोल्हूओं के मालिक मंडी समिति व जीएसटी के कागजात बनवाने में जुगाड़ का इस्तेमाल कर अपनी तैयार राब को पीपों में भरकर दूसरे प्रदेश में भिजवाने में सफल होते दिखाई पड रहे हैं।  जिलाधिकारी खीरी व प्रदेश सरकार से किसान नेता अंजनी दीक्षित ने चीनी मिलों एवं गन्ना क्रेसरों को चालू कराने व किसानों का पिछले साल का बकाया गन्ना भुगतान को शीघ्र दिलाने की मांग की है। हालांकि उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव नजदीक है। भाजपा और विपक्षी दल किसानों के भुगतान को शीघ्र दिलाने को लेकर सक्रिय दिख रहे हैं। देखना यह है कि इसमें वह कहां तक सफल होते हैं।
गोला भाजपा विधायक व किसानों के हितैषी अरविंद गिरि ने प्रदेश के मुख्यमंत्री तक गन्ना किसानों की आवाज पहुंचाते हुए  मिल प्रबंधतंत्र को भी ज्ञापनों के माध्यम से चेतावनी देते हुए भरोसा जताया है कि गन्ने का भुगतान शीघ्र ही किसानों को मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *