Gonda News:ग्राम न्यायालय के तहसीलो में स्थापना के विरोध में वकीलों ने घंटों गोण्डा लखनऊ मार्ग जामकर किया प्रदर्शन

जाम के चलते लोग घंटो रहे झुझते भारी पुलिस भी वकीलों के सामने दिखी लाचार 

राम नरायन जायसवाल
गोण्डा। ग्राम न्यायालय को लेकर शनिवार को जिला बार सिविल बार एसोसिएशन गोण्डा संयुक्त बार तले  तेरहवें दिन गुस्सा फूटा गोण्डा -लखनऊ मार्ग अम्बेडकर चौराहे को जाम कर आवागमन बाधित कर दिया घंटों जाम को लेकर गाड़ियों की लम्बी लम्बी कतारे लगी अन्त में एडीएम को ज्ञापन सौंप अपनी मांगो के बारे दिया है। 

बताते चले कि ग्राम न्यायालय की स्थापना तहसील स्तर पर किया जा रहा जिसका विरोध गोण्डा मुख्यालय के वकील सयुक्त बार एसोसिएशन के तले कर रहे। बारह दिनों से चल रहे आन्दोलन पर कोई हल न निकलने के चलते वकीलों ने तेरहवें दिन शनिवार को गोण्डा लखनऊ मुख्य मार्ग अम्बेडकर चौराहे पर सुबह दस बजे जाम कर दी हजारों वकीलों के संख्या बल के आगे पुलिस प्रशासन बौना साबित हो रहा था। घंटों जाम के चलते शहर में भी जाम की स्थिति बनी रही है।

सड़क के दोनों तरफ गाड़ियों के लम्बे लम्बे लाइने लग गयी। ग्राम न्यायालय अधिकार को वापस लेने की मांग कर रहे वकील नारे बाजी से प्रशासन की बोलती बन्द हो गयी थी। 

जिला बार व सिविल बार एसोसिएशन के  संयुक्त तत्वावधान में अधिवक्ताओ ने अध्यक्ष दीनानाथ त्रिपाठी, वीरेंद्र त्रिपाठी एवं महामंत्री मनोज कुमार सिंह,प्रदीप कुमार पाण्डेय के  नेतृत्व में एडीएम को ज्ञापन सौंपा है। वरिष्ठअधिवक्ताओं ने अपने सम्बोधन मे अधिवक्ताओं ने आरोप लगाया कि तीनों तहसीलो मे न्यायिक प्रक्रिया संचालित नही हो सकती है। यदि ग्राम न्यायालय के नाम पर तीनों तहसीलो पर मुंसिफ न्यायालय कायम की जाती है तो न तो न्यायालय की गरिमा बचेगी और न ही पीठासीन अधिकारी ही सुरक्षित रहेंगे। प्रदर्शन पर ध्यान आकर्षित कराते हुए तहसीलो पर व्यापक व्याप्त राजनीतिक हस्तक्षेप एवं सत्तासीन नेताओ के हस्ताक्षेप को नकारा नही जा सकता है ,इस अधिनियम की मंसा से पूर्ण रूपेण परे है ।

इसलिए ग्राम न्यायालय- मुंसिफ न्यायालय की स्थापना से  जहां गरीबो के न्याय से बंचित होना पड़ेगा ,वही गरीब मजलूम की जमीर- जमीन पर डाका डालने मे सत्तासीन लोग सफल होते नजर आएगें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *