Lakhimpur Kheri News:आर्य कन्या महाविद्यालय में हिंदी दिवस का भव्य आयोजन

हिंदी भारत के माथे की बिंदी है: राजकुमार त्रिवेदी
हिंदी समय के साथ और विकसित हुई है: डॉक्टर पायल रॉय
एन.के.मिश्रा
लखीमपुर खीरी ।भगवानदीन आर्य कन्या स्नातकोत्तर महाविद्यालय में हिन्दी साहित्य परिषद के तत्वाधान में हिंदी पखवारा के अंतर्गत हिन्दी दिवस के शुभ अवसर पर विचार गोष्ठी का अयोजन विषय “स्वातंत्र्योत्तर हिंदी: वर्तमान दशा और दिशा” हिंदी विभाग के द्वारा आयोजित किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि अधिवक्ता संघ के पूर्व अध्यक्ष श्रीराजकुमार त्रिवेदी जी ने दीप प्रज्ज्वलन व राजर्षी पुरोषोत्तम दास टंडन जी के चित्र पर माल्यार्पण कर किया । प्राचार्य डॉ सुरचना त्रिवेदी ने
दीप प्रज्ज्वलित कर माल्यार्पण  किया। विशिष्ट अतिथि डॉ पायल राय ने भी माल्यार्पण किया। राजकुमार जी अपने वक्तव्य में कहा कि संविधान लागू करते समय 15 साल के लिए हिंदी को विशेष स्थान दिया गया था लेकिन आजादी  के 75 वर्ष बाद भी हिंदी की स्थिति उसी तरह बनी हुई है। राजकुमार जी ने इलाहाबाद हाईकोर्ट की प्रशंसा की जिसके माननीय जज ने हिंदी में सुनवाई करना प्रारंभ किया, और इसका प्रभाव लखनऊ के खण्ड पीठ में भी दिखाई देता है जहां पर हिंदी में सुनवाई प्रारंभ की गई है।राजकुमार त्रिवेदी जी को ‘साहित्य श्री ‘ सम्मान से सम्मानित किया गया। प्रियांशी, रोशनी ने सरस्वती वंदना का पाठ किया। शिवांगी वाजपाई ने स्वरचित कविता का पाठ किया। कार्यक्रम का संयोजन हिंदी विभागाध्यक्ष डाक्टर शशि प्रभा वाजपाई ने सहसंयोजन डॉक्टर सुशीला सिंह ने किया।डॉक्टर शशि प्रभा वाजपाई ने अपने वक्तव्य में कहा कि उम्मीद कर सकते हैं आजादी के 75 वीं वर्षगांठ के अवसर पर अमृत महोत्सव के वर्ष  में हिंदी को राष्ट्रभाषा का स्थान प्राप्त हो जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *