Gonda News:जिले में जल्द बनेगी स्मृति वाटिका-डीएम मार्कण्डेय शाही

शासन से पौधरोपण का मिला लक्ष्य,49 लाख से अधिक होगा पौधरोपण

डीएम की अध्यक्षता में जिला वृक्षारोपण समिति की बैठक सम्पन्न

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा।जनपद में वृक्षारोपण को लेकर डीएम मार्कण्डेय शाही ने अभिनव पहल की है। कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला वृक्षारोपण समिति की बैठक में डीएम ने निर्देश दिए हैं कि सार्वजनिक उपयोग की जमीनों पर औषधीय गुणों वाले पौधे रोपित कराए जाएगें तथा विलुप्त प्राय हो रही नदियों के किनारे आने वाले गावों में विशेष अभियान चलाकर पौधरोपण कराया जाएगा। टेढ़ी नदी के किनारेे पड़ने वाले 146 ग्राम पंचायतों में नदी के किनारे अर्जुन, पीपल, बरगद, महुआ, बड़हल, पाकड़, अशोक तथा सहजन के पौधेे रोपित कराए जाएं। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में औषधीय गुणों एवं इम्युनिटी बढ़ाने वाले पौधों का महत्व बढ़ा है, ऐसे में यह अवसर है कि इसे प्राथमिकता दी जाए।
बैठक में डीएम ने विगत वर्ष हुए वृक्षारोपण कार्य की विभागवार सत्यापन रिपोर्ट न आने पर गहरी नाराजगी व्यक्त की तथा निर्देश दिए कि दो दिन के भीतर सभी सम्बन्धित विभागाध्यक्ष सत्यापन रिपोर्ट उपलब्ध करा दें अन्यथा की दशा में कड़ी कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी, वहीं पौधरोपण कार्य में रूचि न लेने पर एक्सईएन सरयू ड्रेनेज खण्ड-1 का वेतन रोकने के आदेश दिए हैं। जिलाधिकारी ने सभी सम्बन्धित विभागाध्यक्षों को निर्देश दिए हैं कि 15 जून से पहले विभागीय लक्ष्य के सापेक्ष गड्ढे खुदवा लें तथा एक्शन प्लान बनाकर वृक्षोरापण हेतु नोडल अधिकारी नामित करते हुए रिपोर्ट प्रस्तुत करेें।

बुके नही अब अतिथियों को मिलेंगे उपयोगी पौधे

जिलाधिकारी ने कहा कि अतिथियों को बुके दिए जाने की परम्परा को खत्म कर बुके के स्थान पर उन्हें उपहार स्वरूप उपयोगी पौधे भेेंट किए जाएगें तथा उपहार के लिए दिए जाने वाले पौधे स्वयं सहायता समूहों से लिए खरीदे जाएंगें जिससे स्वयं सहायता समूहों को स्वालम्बन व रोजगार के साथ-साथ आर्थिक मदद भी मिल सकेगी। बैठक में उन्होंने सीडीओ को निर्देश दिए कि प्रधानमंत्री आवास व मुख्यमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सहजन के पौधे लगाने के लिए प्रेरित कराएं।

शादियों में ग्रामप्रधान वर वधुओं को फलदार पौधें करें गिफ्ट

उन्होेने एक और अभिनव और अत्यन्त उपयोगी सुझाव देते हुए कहा कि ग्राम पंचायतों में ग्राम प्रधानों को इस बात के लिए प्रेरित कराएं कि ग्राम सभा में पड़ने वाली शादियों में ग्राम प्रधान वर-वधू को फलदार पौधों का दान दें। इसके अलावा आंगनबाड़ी केन्द्रों, कस्तूरबा गांधी विद्यालयों, सभी सामुदायिक व प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, एएनएम सेन्टर तथ हेल्थ एवं वेलनेस सेन्टरों, अस्थाई व स्थाई गौ आश्रय केन्द्रों में सहजन के पौधे लगवाए जाएगे। उन्होंने कहा कि जैव विविधता बनाए रखने के उद्देश्य से तथा पक्षियों को आकर्षित करने वाले विलुप्त प्राय हो रहे पौधे जैसे पीपल, बरगद, गूलर, पाकड़, बड़हल, अर्जुन, हरिशंकरी, पारिजात, नीम, आंवला, जामुन, मौलश्री, अंजीर तथा शहतूत के पौधे लगवाए जाएगें।

पूर्वजो के नाम से स्मृति वाटिका में पौधरोपण कर करें देखभाल

बैठक में डीएम ने कहा कि जनसामान्य को पौधरोपण से जोड़ने के लिए जिले में शीघ्र ही स्मृति वाटिका स्थल का चिन्हांकन कर रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि स्मृति वाटिका में कोेई भी व्यक्ति अपने पूर्वज या प्रिय की स्मृति में स्मृति वाटिका में पौध लगा सकेगा तथा उसकी देखभाल भी वह स्वयं ही करेगा। इसके अलावा नहरों के किनारे व जिले की प्रमुख सड़कों के किनारे भी पौधरोपण कराने के निर्देश दिए हैं।

विभागवार पौधरोपण का लक्ष्य हुआ निर्धारण

बैठक में डीएफओ आर0के0 त्रिपाठी द्वारा बताया गया कि इस वर्ष वृक्षारोपण अभियान के तहत जनपद हेतु 49 लाख 47 हजार 995 पौधे रोपित करने का लक्ष्य शासन से प्राप्त हुआ है जिसमें वन विभाग द्वारा 17 लाख 50 हजार, ग्राम्य विकास विभाग द्वारा 18 लाख 6 हजार, पंचायतीराज विभाग व राजस्व विभाग द्वारा 4 लाख 11 हजार, कृषि विभाग द्वारा 03 लाख 84 हजार, उद्यान विभाग द्वारा 02 लाख 28 हजार, पर्यावरण विभाग द्वारा 01 लाख 94 हजार पौधो सहित 24 विभागों द्वारा कुल 49 लाख 47 हजार 995 पौधे रोपित कराने का लक्ष्य निर्धारित है। उन्होंने बताया कि लक्ष्य के सोक्ष अब तक 47 लाख 35 हजार 346 पौधों को रोपित करने के लिए स्थल चयन की रिपोर्ट प्राप्त हो चुकी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *