Gonda Colonelganj News:एक ही समुदाय के दो जातियों में हुई मारपीट का मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा,सूत्रो की माने तो एक पुलिस अधिकारी ही आग मे घी डालने मे लगा है

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

करनैलगंज(गोंडा)।  एक ही समुदाय के दो जातियों में हुई मारपीट का मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। अलग-अलग संगठनों द्वारा अलग-अलग पक्षों के समर्थन में कार्रवाई की मांग की जा रही है। कोतवाली करनैलगंज क्षेत्र के ग्राम गोनवा के मजरा सूबेदार पुरवा में बीते रविवार को दो अलग-अलग जातीय लोगों के बीच हुई मारपीट का मामला शांत होने का नाम नहीं ले रहा है। मारपीट में घायल एक महिला की हालत नाजुक नाजुक बनी हुई है।

उसका जिला अस्पताल में इलाज चल रहा है। दो पक्षों में तनाव के मद्देनजर गांव में पुलिस बल तैनात है। पीड़ित महिला के परिजनों ने घर के बाहर घर बिकाऊ होने का बैनर लगा कर गांव को छोड़ने की बात कही है। वहीं दोनों पक्षों की तरफ से आधा दर्जन संगठन समर्थन में आ गए हैं। महिला के पक्ष में भारतीय किसान यूनियन भानु गुट भी मैदान में आ गया है। ग्राम गोनवा के मजरा सूबेदार पुरवा में मारपीट के बाद मौके पर जांच करने पहुंचे अपर पुलिस अधीक्षक, पुलिस क्षेत्राधिकारी एवं कोतवाल सहित कई अधिकारियों ने जांच की।

मामला अब हाई प्रोफ़ाइल बन चुका है। मामले को तूल पकड़ाने की कोशिशें भी तेज हैं। एक पक्ष के समर्थन में करनैलगंज बार एसोसिएशन, ब्राह्मण महासभा ने मारपीट में पक्षपात का आरोप लगाते हुए दूसरे पक्ष का एप्लीकेशन न लेने एवं एफआईआर न दर्ज करने का आरोप लगाया है। वहीं चार संगठन महिला के पक्ष में उतर कर सामने आए हैं और महिला के घर पर जाकर पूरे मामले की जांच कर चुके हैं।

अब महिला के समर्थन में भारतीय किसान यूनियन भानु गुट भी उतर आया है। यूनियन के प्रदेश मंत्री गजराज सिंह ने बताया कि महिला के परिजन किसान यूनियन के सदस्य एवं पदाधिकारी हैं। उनके उत्पीड़न को लेकर किसान यूनियन उनके समर्थन में है और यदि पीड़ित परिवार की सुनवाई न हुई, उसका समुचित इलाज न हुआ या उसके तरफ से कार्रवाई में कोताही बरती गई तो किसान यूनियन के कार्यकर्ता भी सड़क पर उतरने को मजबूर होंगे। उधर पीड़ित महिला नीलम वर्मा को हाथ और सिर में चोट होने के कारण उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है।

उसे जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। गांव में एहतियातन पुलिस बल तैनात है। उधर कोतवाल राजनाथ सिंह बताते हैं कि मामले में पुलिस के स्तर से समुचित कार्रवाई की जा रही है। किसी के लिए कोई खतरा नहीं है और गांव में पुलिस बल तैनात है। कुछ लोग मामले को अनावश्यक तूल देने का प्रयास कर रहे हैं।

वही सूत्रो की माने तो जिले के पुलिस विभाग के एक उच्च अधिकारी मामले को तूल देने मे लगे है ,जो कभी बडी घटना का रुप ले सकती है अगर कही जातिय संंघर्ष हुआ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *