Gonda Colonelganj News: कोतवाल वेद प्रकाश श्रीवास्तव के बाद लगातार कोतवाल की सीट डगमगाती रही लगभग दो वर्षों में 7 कोतवाल बदले

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

करनैलगंज(गोंडा)। करनैलगंज कोतवाली में लगभग दो वर्षों में 7 कोतवाल बदले जा चुके हैं। दो वर्ष पहले करनैलगंज कोतवाली में तैनात रहे कोतवाल वेद प्रकाश श्रीवास्तव के बाद लगातार कोतवाल की सीट डगमगाती ही  रही। वेद प्रकाश श्रीवास्तव दो वर्ष पहले हटाए गए। वे करीब डेढ़ वर्ष से अधिक समय तक यहां तैनात रहे। उसके बाद अशोक कुमार सिंह को यहां का कोतवाल बनाया गया। जो फरवरी 2019 तक रहे, उसके बाद राजेश कुमार सिंह को कमान सौंपी गई। वह दिसंबर 19 तक रहे। उनके हटने के बाद केके राणा को तैनाती मिली। जो मात्र 4 महीने का कार्यकाल पूरा किए। केके राणा के हटने के बाद अपराध निरीक्षक रहे सुधीर कुमार सिंह ने एक माह कोतवाली का चार्ज देखा। उसके बाद मई महीने में राजनाथ सिंह को करनैलगंज कोतवाली की कमान सौंपी गई थी। जिन्हें पुलिस अधीक्षक ने रिश्वत का ऑडियो वायरल होने पर निलंबित कर दिया। लगातार दो वर्ष से अस्थिरता के चलते यहां तैनात होने वाले प्रभारी निरीक्षकों की कुर्सी ड़गमगाती ही रही है। पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडेय ने कोतवाल राजनाथ सिंह को निलंबित करने के एक माह बाद मनीष कुमार जाट को  करनैलगंज थाने की कमान सौंपी थी। कोतवाल मनीष कुमार जाट की कार्य शैली को देखते हुए लोगों का मानना था की अब ये कुर्सी इतनी जल्दी नही डगमगयायेगी। मगर ऐसा नही हुआ औऱ लगभग तीन माह में ही कोतवाल मनीष जाट को पुलिस अधीक्षक ने बुधवार की रात्रि लाइन हाजिर कर दिया। सूत्रों द्वारा बताया जा रहा है कि कोतवाल द्वारा विवेचना के दौरान  एक गांजा तस्कर का नाम निकालने तथा एक जमीन पर हुए कब्जे  को लेकर पुलिस अधीक्षक द्वारा ये कार्रवाई की गई है। हालांकि अब इस कोतवाली में एक अदद नए कोतवाल की तलाश है वहीं यहां के माहौल को देखकर कोई भी इंस्पेक्टर इस कोतवाली में पोस्टिंग लेने से कतराने लगा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *