Gonda News:खून का अवैध कारोबार,5 गिरफ्तार के मामले में समाजसेवी नूतन ठाकुर ने पुलिसिया कार्रवाई पर उठाया सवाल

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा। जनपद में लाल खून अवैध कारोबार के मामले में गोंडा पहुंची समाजसेवी नूतन ठाकुर प्रेस कॉन्फ्रेंस कर पुलिसिया कार्रवाई पर उठाया सवालिया निशान।

उन्होंने बताया कि गोल्डेन ब्लड बैंक संस्था भी अवैध है।ये न तो सीएमओ के यहां से अधिकृत है और न ही ड्रग्स एंड नारकोटिक्स एक्ट के तहत पंजीकृत है। संस्था के ऊपर पुलिस ने कार्रवाई की है जबकि ब्लड बैंक में करते हैं लोगों को ब्लड देते हैं उन पर नहीं पहुंचे घटनास्थल की भी मैंने निरीक्षण किया है तत्वों के आधार पर मैं इनकी मदद कर रही हूं। इन्होंने मानवाधिकार आयोग में अपनी लिखित शिकायत की थी पुलिस की जांच निष्पक्ष नहीं हो रही है। इसको लेकर उन्होंने लगाया गंभीर आरोप ।
आपको बताते चलें कि हाल में ही गोंडा में जिला अस्पताल एससीपीएम हॉस्पिटल ब्लड बैंक में पुलिस के छापेमारी में 5 लोगों को गिरफ्तार किया था न्यायालय के समक्ष पेश करके उनको जेल भेजा गया जिसको लेकर संस्था के लोगों ने मानवाधिकार आयोग समाजसेवी नूतन ठाकुर को पत्र के माध्यम से पुलिसिया कार्रवाई पर लगाए गंभीर आरोप इसी प्रकरण में समाजसेवी नूतन ठाकुर ने घटनास्थल गोंडा संस्था के कार्यालय पहुंच कर मीडिया से बात करते हुए उन्होंने निष्पक्ष तत्वों के आधार पर पुलिस पर सवालिया निशान खड़ा किया है।
ड्रग्स इंस्पेक्टर बलरामपुर ओम प्रकाश अतिरिक्त प्रभार गोण्डा के तहरीर व गिरफ्तार अभियुक्तों के बयान के आधार पर 14 नामजद व एक अज्ञात के खिलाफ नगर कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया।अन्य अभियुक्तों के गिरफ्तारी के लिए टीमों को लगाया गया है।
बसन्त उर्फ बसन्तू गुप्ता पुत्र सहदेव उर्फ सत्यदेव पटेल नगर थाना को0 नगर जनपद गोण्डा,
सलाहुद्दीन पुत्र सलीम लुद्दुरपुर ओढाझार थाना महाराजगंज जनपद बलरामपुर,अलमास खान पुत्र मंसूर अहमद बडगांव को0 नगर जनपद गोण्डा( अध्यक्ष- द गोल्डेन ब्लड संस्था उ0प्र0 गोण्डा ), मो0 इमरान पुत्र स्व0 मो0 अनवर बड़गांव थाना को0 नगर जनपद गोण्डा, मो0 इलियास पुत्र मो0 शमी नि0 मेवातियान थाना को0 नगर जनपद गोण्डा,द गोल्डन ब्लड बैंक पी-1017,आवास विकास कोतवाली नगर,सलीम,साहेब,कालिया,नान्हू,सिद्धार्थ मिश्रा, के के मिश्रा एससीपीएम अस्पताल, राज कुमार चौधरी जिला अस्पताल, चंद्र प्रकाश पूर्व कर्मचारी शव वाहन चालक जिला अस्पताल व एक अज्ञात। मुकदमा पंजीकृत कराया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *