gonda colonelganj news:घाघरा के जलस्तर में निरन्तर वृद्धि के चलते घाघरा खतरे के निशान से 53 सेंटीमीटर ऊपर,एक मीटर तक पहुंचने की संभावना

घाघरा के किनारे बसे गांवो को प्रशासन ने किया सतर्क,नावों की व्यवस्था में जुटा प्रशासन 

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

 करनैलगंज,गोण्डा। नेपाल के पहाडों पर हो रही बरसात व विभिन्न बैराजो से छोडे गये पानी के चलते घाघरा का जलस्तर खतरे के निशान से 53 सेंटीमीटर ऊपर तक पहुँच गयी है सिंचाई विभाग की माने तो जलस्तर का बढना निरंतर जारी होने के चलते नदी से सटे गावों मे एलर्ट कर विभाग नावों के प्रबंध में जुटा हुआ है करनैलगंज व तरबगंज के एसडीएम बराबर बाढ की स्थिति पर नजर बनाये हुए है।

बताते चले किि  नेपाल के पहाड़ों सहित घाघरा के कैचमेंट इलाको में हो रही बरसात के चलते बढ़े घाघरा के जलस्तर से अब परेशानी शुरू हो चुकी है। गुरुवार को घाघरा का जलस्तर खतरे के निशान से करीब 53 सेंटीमीटर ऊपर पहुंच चुका है। अनुमान है कि जलस्तर 1 मीटर तक ऊपर जा सकता है। उफनाई घाघरा का पानी बांध के अंदर बसे गांव नकहरा, मांझा रायपुर, बेहटा सहित नैपुरा व परसावल के मजरों में आना शुरू हो चुका है। हालांकि अभी तक लोगों के घरों में पानी नहीं घुसा है। लेकिन जिस रफ्तार से नालों के माध्यम से पानी गांव की तरफ आ रहा है उससे आने वाले दिनों में गांव सुरक्षित नहीं रह गए हैं। नकहारा गांव के कई मजरों के रास्तों पर बाढ़ का पानी भर चुका है। गुरुवार को घाघरा घाट एल्गिन ब्रिज स्थित केंद्रीय जल आयोग संस्थान के आंकडे बताते है कि नदी का जल स्तर जिस हिसाब से बढ़त बनाये हुये है। उससे शुक्रवार तक स्थिति भयावाह हो सकती है। सुबह दस बजे प्राप्त आंकड़ो के अनुसार एल्गिन ब्रिज पर घाघरा का जल स्तर 106 दशमलव 606 दर्ज किया गया। जो कि खतरे के निशान से 53 सेंटीमीटर ऊपर था। तो वही शारदा, गिरजा व सरजू बैराजों का कुल डिस्चार्ज 6 लाख 11 हजार 902 क्यूसेक दर्ज किया गया।

 करनैलगंज  एसडीएम हीरा लाल  व बाढ़ खण्ड के अधिकारियो ने बताया कि स्थिति पर नजर बनाए हुये है। जरूरत पड़ने पर नावों की भी वयवस्था की जा रही है।ग्रामीणो को सतर्क रहने को कहा गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *