Gonda News:मालगाड़ी के चपेट में नील गाय के आने से दो डिब्बे पटरी से उतरे,दो किलोमीटर रेल पटरिया क्षतिग्रस्त छः घंटे बाद आवागमन हुआ बहाल

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा।  रविवार भोर के समय गोरखपुर से गोण्डा आ रही मालगाड़ी बरूआचक स्टेशन और गोण्डा जंकशन के बीच सोनी गुमटी के पास ट्रैक पर बैठे नील गाय के  चपेट में आने से चक्के में फँसकर दो डब्बे पटरी से उतर काफी दूर तक घसीटते चले गये जिसके चलते रेल पटरियां क्षतिग्रस्त हो गई लगभग छः घटे ट्रेनो का संचालन बाधित रहा है। 

बताते चले कि रविवार सुबह  तड़के लगभग 04:12 मिनट पर  गोरखपुर से गोंडा आ रही मालगाड़ी अचानक सोनी गुमटी के पास ट्रैक पर बैठे जानवरों से टकराकर डिरेल हो गई। मालगाड़ी की चपेट में आने से जहां दो मवेशियों  की मौत हुई तो वही उसके दो डिब्बे भी बेपटरी हो गए, जिसके चलते तकरीबन 6 घंटे तक अप रूट का आवागमन पूरी तरीके से बाधित रहा, उक्त घटना बरूआचक-गोण्डा जंकशन के बीच किलोमीटर 650 पर नील गायो को पार करते समय घटी जिसके चलते फंसे मवेशी 653 किलोमीटर तक घसीटते चली गयी जिसके चलते माल गाडी के दो डिब्ब  बेपटरी हो गये  और गोंडा से गोरखपुर जाने वाली ट्रेनें जहां की तहां खड़ी कर दी गई।चालक के द्वारा  मालगाड़ी के डिरेल होने की सूचना मिलते ही रेलवे के तमाम आला अधिकारी मौके पर पहुंचे, जिनकी मौजूदगी में  भी रेलवे ट्रैक को बहाल किए जाने का काम चलता  रहा है। 

आपको बता दें कि जिस जगह मालगाड़ी जानवरों से टकराई उस जगह से तकरीबन 2 किलोमीटर की दूरी में रेल ट्रैक की पटरिया पूरी तरीके से क्षतिग्रस्त हो गई। जिसे ठीक करने में रेलवे को 6 घंटे से ऊपर का समय लग गया। घटना की सूचना मिलने के बाद रेलवे का आपातकालीन यान भी मौके पर पहुंचा जिसकी मदद से पटरियों को एक बार फिर से दुरुस्त करने का काम चल रहा है।पूर्वोत्तर रेलवे के एरिया मैनेजर मनीष कुमार ने बताया है कि अप लाइन पर दुर्घटना घटी थी ट्रैक पर जानवरों के आ जाने पर छः घटे बाद आवागमन बहाल कर दिया गया है मरम्मत कार्य जारी है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *