Gonda News:तिर्रे मनोरामा स्थित रामजानकी मंदिर की डेढ सौ बिघे जमीन को लेकर बदमाशों ने, पुजारी को मारी गोली, हालत गंभीर,दो हिरासत में

भू-माफिया के इशारे पर बदमाशों ने, पुजारी को मारी गोली, हालत गंभीर,दो हिरासत में


एक माह पूर्व मन्दिर की सुरक्षा को लेकर थाना प्रभारी व महन्त से सुरक्षा को लेकर  हुआ था विवाद सशस्त्र पुलिस को हटाकर 2 होमगार्डों की तैनाती कर दी

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा।पूरे प्रदेश को हिलाकर रख दिया है भू माफियो ने   चौरासी हजार मुनियों की तपस्थली के रूप में सुविख्यात पौराणिक मनवर उद्गम स्थल तिर्रे मनोरामा स्थित ऐतिहासिक रामजानकी मंदिर की डेढ सौ बिघे  जमीन के विवाद को लेकर शनिवार आधी रात के बाद पुजारी को बदमाशों ने गोली मार दी जबकि मन्दिर के महन्त ने सुरक्षा व्यवस्था को लेकर एक महीने पहले थाना प्रभारी से विवाद भी हुआ था जब दो कांस्टेबल को हटा होम गार्ड तैनात किये गये थे।जिसको लेकर पुलिस के ऊपर सवालिया निशान लग रहा है। 

 बताते चले घटना में गोली लगने से गंभीररूप से घायल पुजारी को  आनन-फानन में उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया।इमरजेन्सी  डाक्टरों के अनुसार   गोली उनके बाएं कंधे को छूकर निकल गई। हालत गंभीर देख उनको किंग जार्ज मेडिकल कॉलेज लखनऊ रेफर किया गया है। सूचना पाकर रात में ही पुलिस अधीक्षक शैलेश कुमार पांडे ने मौका-ए-वारदात पर पहुंच कर जायजा लिया। पुलिस ने इस मामले दो को हिरासत में लिया है।


मामला इटियाथोक कोतवाली के तिर्रेमनोरमा का है। मंदिर के महंत सीताराम दास ने बताया, कि रात में करीब दो बजे पुजारी सम्राट दास (24) पुत्र सच्चिदानन्द त्रिपाठी  को सोते समय गोली मार दी गई। गोली उनके बाएं कंधे पर लगकर निकल गई।मंदिर के महंत ने बताया कि रात में मंदिर की सुरक्षा में दो होमगार्ड भी तैनात थे। होमगार्ड की मौजूदगी के बाद भी अपराधियों ने आकर पुजारी को गोली मार दी। उनका कहना है कि मंदिर की जमीन को लेकर लंबे समय से विवाद चल रहा है।30 एकड जमीन का पूरा मामला है। क्षेत्र का एक दबंग भू-माफिया व अपराधी इसको लेकर कई बार धमकी दे चुका है। पहले भी कई बार विवाद हुआ लेकिन, प्रशासन ने कोई ध्यान नहीं दिया। ग्रामीणों में घटना को लेकर आक्रोश है।महन्त की माने तो यह मन्दिर अयोध्या के  वल्लभा कुंज से जुड़वा हुआ है।


एक माह पूर्व मंदिर के महंत ने इटियाथोक के प्रभारी निरीक्षक संदीप सिंह  से सुरक्षा की गुहार लगाई थी, बावजूद सुरक्षा में लगे सशस्त्र पुलिस बल को हटाकर दो होमगार्डों की ड्यूटी लगा दी गई,जो सिर्फ डंडों के सहारे सारी सुरक्षा व्यवस्था संभाल रहे थे।बताया जा रहा है, कि अब इस घटना के बाद एक आडियो भी वायरल हुआ है।जिसमे सुरक्षा को लेकर थाना प्रभारी इस तरह से खीझे की  सशस्त्र धारी पुलिस कांस्टेबल को हटा लिया था जब कि इसके पहले महन्त के ऊपर भी हमला हो चुका है  जिसे लेकर स्थानीय पुलिस की कार्यशैली पर कई सवालिया निशान लग रहे हैं।

वैसे मन्दिर के महन्त के द्वारा  उसी गांव के चार लोगों को नामजद किया गया है अमर सिंह, दरोगा सिंह भय हरण सिंह व मुकेश सिंह जिसमें अमर सिंह अभी जल्द ही जेल से छूटा है पुलिस ने दो लोगों को हिरासत में लेकर पूछ ताछ शुरू की है पुलिस अधीक्षक की माने तो जल्द ही मामले में आरोपियो को गिरफ्तार कर लिया जावेगा।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *