Gonda News:प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम की तैयारियों के संबंध में मंत्री, जल शक्ति की अध्यक्षता में सर्किट हाउस सभागार में बैठक सम्पन्न

प्रधानमंत्री  11 दिसंबर को करेंगे  सरयू नहर परियोजना का लोकार्पण
सरयू नहर परियोजना से साढ़े 14 लाख हेक्टेयर भूमि होगी सिंचित-  मंत्री, जल शक्ति
राम नरायन जायसवाल
गोण्डा।  प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम की तैयारियों के दृष्टिगत  मंत्री, जल शक्ति विभाग डॉ० महेन्द्र सिंह ने सर्किट हाउस सभागार में जनपद स्तरीय अधिकारियों के साथ  समीक्षा बैठक की।
 इस दौरान उन्होने कहा कि आजाद भारत की अब तक की सबसे बड़ी नहर परियोजना सरयू नहर परियोजना को माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा 11 दिसंबर को जनपद  बलरामपुर के हसुआ डोल से राष्ट्र को समर्पित किया जाएगा।
बैठक में  मंत्री ने बताया कि यह नहर परियोजना क्रमशः 9 जिलों (बहराइच, गोण्डा, श्रावस्ती, बलरामपुर, बस्ती, सिद्धार्थनगर, संतकबीर नगर, गोरखपुर व महाराजगंज) से होकर गुजरने वाली 318 किलोमीटर लंबाई की 9802 करोड़ की लागत से निर्मित आजाद भारत की अब तक की सबसे बड़ी परियोजना है। जिसका लोकार्पण 11 दिसंबर को माननीय प्रधानमंत्री जी द्वारा जनपद बलरामपुर में किया जाएगा।
              उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री व  मुख्यमंत्री के नेतृत्व में आजाद भारत की सबसे बड़ी परियोजना का कार्य पूरा किया गया। सरयू नहर परियोजना के लिए घाघरा, राप्ती, बाणगंगा, सरयू व रोहिणी नदी, को आपस में जोड़ा गया है।
      मंत्री  ने लोक कल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों को कार्यक्रम स्थल पर ले जाने लाने हेतु संबंधित अधिकारियों को निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि  प्रधानमंत्री के प्रस्तावित कार्यक्रम को देखते हुए जनपद में विशेष स्वच्छता अभियान समस्त नगर पालिका, नगर पंचायत, ग्राम पंचायत में चलाया जाए।
 कार्यक्रम स्थल पर लाभर्थियों को ले जाने व वापस उनको घर तक छोड़ने हेतु ग्राम पंचायत स्तर पर अधिकारियो की नियुक्त किए जाने हेतु निर्देश दिया गया है। मंत्री  ने संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया है कि मास्क और सेनीटाइजर की व्यवस्था करते हुए कोविड प्रोटोकाल का पालन सुनिश्चित किया जाए।
 इसके साथ ही इस बात का विशेष ध्यान रखा जाए कि एंबुलेंस के संचालन में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत न आए।
    बैठक में जिलाधिकारी मार्कंडेय शाही ने बताया कि  प्रधानमंत्री  के जनपद बलरामपुर में प्रस्तावित कार्यक्रम के मद्देनजर जिले के लाभार्थियों को कार्यक्रम स्थल पर लाने एवं ले जाने के लिए नोडल अधिकारियों की तैनाती की गई है। नोडल अधिकारियों को यह निर्देश दिया गया है कि लाभार्थियों को कार्यक्रम स्थल पर जाने और अपने घर वापस आने तक उन्हें कोई दिक्कत न होने पावे। गांवों में तैनात सचिव, रोजगार सेवक एवं लेखपालों को भी लाभार्थियों से सम्पर्क कर सूची भी तैयार कर ली गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *