Gonda News:जिला महिला अस्पताल गोण्डा को मिला कायाकल्प अवार्ड, बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं के लिए महिला अस्पताल ने एक बार फिर मारी बाजी

सरकार द्वारा दी गई 03 लाख रूपए की प्रोत्साहन राशि

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा।कायाकल्प अवार्ड योजना के तहत एक बार फिर जिला महिला अस्पताल ने प्रदेश में बाजी मारी है। प्रदेश के 360 से अधिक जिला स्तरीय अस्पतालों के सर्वे में प्रदेश के 77 अस्पतालों ने अवार्ड जीता है जिसमें जिला महिला अस्पताल गोण्डा को 44वीं रैंक मिली है।

बताते चलें कि प्रदेश सरकार द्वारा अस्पतालों को प्रतिवर्ष कायाकल्प अवार्ड दिया जाता है जिसका सर्वे सरकार द्वारा कराया जाता है। सर्वे के मानकों का प्रदेश स्तरीय टीम द्वारा स्थलीय सत्यापन करने के बाद अवार्ड के लिए अस्पतालों का चयन प्रदेश स्तर से होता है। जिला महिला अस्पताल के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डा0 ए0पी0 मिश्रा के अनुसार विगत वर्ष 2018-19 में भी जिला महिला अस्पताल को यह अवार्ड मिल चुका है तथा इस वर्ष भी अस्पताल को यह अवार्ड मिला है। 

उन्होंने बताया कि अवार्ड के लिए प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश के 360 से अधिक जिला स्तरीय अस्पतालों का सर्वे कराया गया जिसमें प्रदेश के 77 अस्पतालों को चयनित किया गया है,जिसमें गोण्डा महिला अस्पताल ने 74.24 प्रतिशत अंकों के साथ 44वां स्थान हासिल किया है। उन्होंने बताया कि प्रदेश सरकार द्वारा अवार्ड के प्रोत्साहन धनराशि के रूप में 03 लाख रूपए की धनराशि दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि देवीपाटन मण्डल में सिर्फ जिला महिला चिकित्सालय गोण्डा को ही यह अवार्ड प्राप्त हुआ है।अवार्ड के मानकों के बारे में बताते हुए सीएमएस श्री मिश्रा ने कहा कि जिला महिला अस्पताल को यह अवार्ड साफ-सफाई व्यवस्था, संक्रमण प्रतिरोधन व्यवस्था, मरीजों की देखभाल, हाई रिस्क प्रेग्नेन्सी मैनेजमेन्ट, बायोमेडिकल बेस्ट मैनेेजमेन्ट तथा सामान्य प्रशासन सहित अन्य निर्धारित मानकों का परीक्षण के आधार पर दिया गया है।

सीएमएस श्री मिश्रा के अनुसार जिला महिला अस्पताल मंे सुविधाओं को लेकर उनके द्वारा लगातार सकारात्मक प्रयास किए जा रहे हैं जिसके परिणाम स्वरूप जिला महिला अस्पताल में पहले औसतन प्रतिदिन होने वाले आपरेशन की संख्या 05 से बढ़कर 15-20 हो गई है। इसी प्रकार महिला अस्पताल में प्रतिदिन 20-25 से डिलीवरी का औसत था जो अब बढ़कर 45-50 डिलीवरी प्रतिदिन का हो गया है तथा प्रतिमाह 1200-1500 डिलीवरी जिला महिला अस्पताल में हो रही है।
 नवजात बच्चों को आईसीयू की सुविधा के लिए स्थापित एसएनसीयू यूनिट की क्षमता 5 बेड  से बढ़ाकर 11 हुई तथा अब 06 और बेड्स की स्वीकृति शासन से मिलने के बाद जिला महिला अस्पताल के एसएनसीयू यूनिट की क्षमता 17 बेड की हो गई है।


 उनका कहना है कि एसएनसीयू यूनिट का विस्तार होने से नवजात बच्चों का जीवन बचाने में बहुत बड़ा योगदान मिलेगा। रोगियों की सेवा के लिए अस्पताल में नियमित व अस्थाई कर्मियों को मिलाकर कुल 240 स्टाॅफ सेवाएं दे रहे हैं। अस्पताल में आयुष्मान काउन्टर तथा वातानुकूलित आयुष्मान वार्ड भी संचािलत है। 


वहीं लगभग 19 करोड़ रूपए की लागत से निर्मित आधुनिक सुविधाओं से लैस 100 शैय्यायुक्त नवीन भवन में रोगियों को बेहतरीन स्वास्थ्य सेवाएं दी जा रही हैं।अस्पताल को दोबारा कायाकल्प अवार्ड मिलने पर जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल  सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने बधाई दी है। इस उपलब्धि पर स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों में खुशी व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *