Gonda News:स्वयं सहायता समूह गठन करने आई टीम की सदस्य के साथ स्कूल के प्रधानाध्यापिका ने की बदसलूकी

 

राम नरायन जायसवाल 

ग़ोण्डा ।गोण्डा के झंझरी ब्लॉक जिला मिशन प्रबंधन एन,आर, एल,एम, ग्राम पंचायत में गांव में स्वयं सहायता समूह गठन करने के लिए महिला की टीम जिसमें 3 महिलाएं शामिल हैं ग्राम पूरे खेमकरन पूरे ललक प्राथमिक विद्यालय स्कूल में अंबेडकर नगर जिला अकबरपुर ब्लॉक की महिलाओं की टीम गोंडा झंझरी ब्लॉक के माध्यम से गांव में स्वयं सहायता समूह गठित कराने के लिए तीन महिलाएं पूरे खेमकरण पूरे ललक के लिए भेजी गई जहां पंचायत भवन या प्राथमिक विद्यालय स्कूल में ठहरने के लिए प्रधान सेक्रेटरी के माध्यम से गांव में 15 दिन रहेंगी महिलाओं को करेंगी जागरूक स्वयं सहायता समूह के बारे में जानकारी देंगे जिसको लेकर प्रधान प्रतिनिधि राजेश वर्मा ने प्राथमिक विद्यालय स्कूल एक कमरे के कक्ष में ताला खुलवा कर ठहरा दिया जहां तीनों महिलाएं वहां रहना शुरू की और गांव-गांव पुरावा में जाकर महिलाओं को स्वयं सहायता समूह बनाने गठित कराने के लिए प्रेरित करने का काम कर रही है।

 

स्वयं सहायता समूह आई सी आर पी सेंटर लीडर शारद ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि अंबेडकर नगर जिला ब्लॉक अकबरपुर निवास ग्राम नूपुर मयूर से हम लोग यहां आई हैं दूसरी महिला समूह के ट्रेनों का नाम बीन है एक महिला और उनके साथ आई हैं तीनो लोग स्कूल के कमरे में रहती हैं साथ में तीनों लोग गांव में महिलाओं को इकट्ठा करके समूह बनाने के लिए जागरूक करती हैं समोसे फायदे के बारे में भी बताती है प्राथमिक विद्यालय स्कूल के प्रधानाध्यापिका हम लोगों से प्रूफ मांग रही हैं कहां ब्लाक के अधिकारियों से बात कर लीजिए मगर उन्होंने बात नहीं की हमने प्रधान को फोन करके बुलाया प्रधानाध्यपिका ने प्रधान प्रतिनिधि राजेश वर्मा से तू तू मैं मैं करने लगी लड़ करने लगी और सुबह स्कूल खुला बच्चे कमरे में पढ़ाई ना करके बाहर खेल रहे थे हम लोगों के मना करने पर कमरे के सामने बच्चे शोरगुल मचा रहे थे हम अपना कार्य नहीं कर पा रहे थे शिक्षका बाहर कुर्सी डालकर बैठी थी ।

 

हम लोग 11:00 बजे कमरा बंद करके गांव में महिलाओं को जागरूक करने गठन करने के लिए चली गई लौट के जब हम स्कूल कमरे में आई तो देखा कि बाहर मेरा कपड़ा ड्रेस साड़ी जमीन पर पड़ा था किसी ने उस पर बाथरूम कर दिया था कमरे के दरवाजा ताला खोले तो देख आखिर की तरफ से सामान सब बिखरा पड़ा हुआ था जिसकी सूचना प्रधान ब्लॉक के अधिकारियों को दिए हुआ था उस पर के साथ किसी ने कर दिया था हमने प्रधान और ब्लॉक को सूचना दी है । यह महिला अध्यापिका दबंगई के साथ 10 साल से एक ही स्कूल में नौकरी कर रही है स्कूल में बच्चे कम है 4 टीचर हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *