Gonda News:तिर्रे मनोरमा गोली कांड के 7 अभियुक्त असलहे समेत गिरफ्तार,मंदिर का महंथ ही निकला गोलीकांड का मास्टरमाइंड

राम नरायन जायसवाल /जयदीप शुक्ला

गोण्डा।राम जानकी मंदिर के पुजारी पर हुई फायरिंग के संबंध में पुलिस व स्वाट सर्विलांस टीम ने बेहद चौकाने वाले खुलासे के साथ ही घटना में शामिल 7 अभियुक्तों को असलहे समेत गिरफ्तार कर लिया है।
मालूम हो कि थानाक्षेत्र इटियाथोक अन्तर्गत तिर्रे मनोरमा गांव में स्तिथि राम जानकी मंदिर में रात्रि के लगभग डेढ़ बजे मंदिर के पुजारी सम्राट दास को गोली मारकर घायल कर दिया गया था।
जिसके संबंध में मंदिर के महंत सीताराम दास द्वारा थाने में तहरीर देते हुए अमर सिंह,दरोगा सिंह,मुकेश सिंह,भयहरण सिंह के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया था। पुलिस अधीक्षक शैलेश पाण्डेय ने घटना को संज्ञान में लेते हुए थाने पर तैनात निरीक्षक संदीप सिंह को लाइन हाजिर कर दिया।वहीं थाने की कमान प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार दूबे को सौंपते हुए व स्वाट सर्विलांस टीम को लगाकर घटना का खुलासा करने के साथ ही गिरफ्तारी के सख्त निर्देश दिए थे।जिसमे मंदिर के महंत द्वारा आरोपित चार अभियुक्तों में से दो को नवागत थानाध्यक्ष ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था।


मंदिर के महंत समेत सात गिरफ्तार

वहीं खुलासे में लगी पुलिस व स्वाट/सर्विलांस टीम ने घटना में मुख्य सूत्रधार के रूप में शामिल वादी मंदिर के महंत समेत सात अभियुक्तों को असलहे समेत गिरफ्तार कर चौकाने वाला खुलासा किया है।
गिरफ्तार अभियुक्तों में मंदिर के महंत वृन्दारण त्रिपाठी उर्फ सीताराम दास पुत्र सचिता नंद त्रिपाठी निवासी गुड़ थाना गुड़ जनपद रीवा म०प्र०,विपिन द्विवेदी उर्फ छोटू पुत्र शशिभूषण निवासी राम नई थाना रायपुर करचुलियान रीवा म०प्र०, मुन्ना सिंह पुत्र हरिद्वार सिंह, नीरज सिंह पुत्र विनय सिंह,सोनू सिंह पुत्र देव नारायण सिंह,शिव शंकर सिंह पुत्र विनोद कुमार सिंह,विनय कुमार सिंह पुत्र स्वर्गीय रणजीत सिंह निवासीगण तिर्रेमनोरमा इटियाथोक शामिल हैं।

शिकायतकर्ता ही निकला घटना का मुख्य सूत्रधार

मंदिर की 120 बीघा जमीन हथियाने व प्रधानी चुनाव को निष्कंटक बनाने के लिए मंदिर के महंत सीताराम दास व ग्रामप्रधान विनय सिंह ने संयुक्त रूप से घटना की साजिश रची थी।
जिसके तहत मन्दिर के पुजारी सम्राट दास को गोली मारकर विरोधियों के नामजद करते हुए तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराया गया।
किंतु पासा तो तब उल्टा पड़ गया जब पुलिस व स्वाट सर्विलांस की संयुक्त जांच में शिकायतकर्ता मंदिर के महंत व उनके शागिर्द ही आरोपी निकले।
जिन्होंने योजनाबद्ध तरीके से पुजारी समेत अन्य लोगों को योजना में शामिल करते हुए रात्रि में मंदिर के अंदर घुसकर घटना को अंजाम दिया।साथ ही पुलिस को गुमराह करते हुए अपने चार विरोधियों के विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराकर गिरफ्तारी का दबाव बनाने लगे।किंतु जांच के दौरान वादी मुकदमा खुद ही कानून के शिकंजे में आकर सलाखों के पीछे चले गए।

गिरफ्तारी टीम में ये रहे शामिल

उक्त घटना का खुलासा करने के साथ ही गिरफ्तारी टीम में प्रभारी निरीक्षक इटियाथोक संजय कुमार दुबे, थानाध्यक्ष वजीरगंज संतोष तिवारी,प्रभारी स्वाट/सर्विलांस अतुल चतुर्वेदी,उ0नि0 राजेश कुमार पाण्डेय थाना इटियाथोक हे0का0 श्रीनाथ शुक्ला, मुलायम सिंह यादव,आदित्य कुमार पाल, राजेन्द्र यादव,अजीत सिंह,अरविन्द कुमार, राजू सिंह, अमितेश सिंह,हृदय नारायण दीक्षित स्वाट/सर्विलांस सेल,अरूण यादव थाना वजीरगंज,सुभाष यादव, रमाकान्त यादव, पवन कुमार यादव, जितेन्द्र कश्यप थाना इटियाथोक शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *