Gonda News:पूर्व प्रधान के पर एफआईआर दर्ज,डीएनए टेस्ट के दिए आदेश

डीएम व एसपी ने समाधान दिवस में सुनीं फरियादियों की शिकायतें

पूर्व प्रधान के पर एफआईआर दर्ज,डीएनए टेस्ट के दिए आदेश

 

राम नरायन जायसवाल

 

गोण्डा।जनपद के तहसील मनकापुर में आयोजित जिला स्तरीय सम्पूर्ण समाधान दिवस में जिलाधिकारी मार्कण्डेय शाही ने पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा के साथ जन शिकायतें सुनीं।

जिसमे डीएम व एसपी ने बड़ी कार्यवाही करते हुए मनकापुर कोतवाली अन्तर्गत एक पीड़िता की शिकायत का संज्ञान लेते एफआईआर दर्ज कराकर उसके बेटे का डीएनए टेस्ट कराने के आदेश दिए हैं। पीड़िता द्वारा डीएम और एसपी को प्रार्थना पत्र दिया गया कि ग्राम देवरिया के पूर्व प्रधान राम निवास वर्मा उर्फ ननकू वर्मा द्वारा उसका यौन शोषण किया गया और पूर्व प्रधान से उसे एक बेटा भी है। परंतु अब पूर्व प्रधान द्वारा उसे व उसके बेटे को रखने से इनकार किया जा रहा है और प्रॉपर्टी में कोई भी हिस्सेदारी नहीं दी जा रही है।

मामले का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा ने एसएचओ मनकापुर को प्रकरण में तत्काल एफआईआर दर्ज करने तथा बच्चे का डीएनए टेस्ट कराने के आदेश दिए हैं। जिलाधिकारी ने बताया डीएनए रिपोर्ट आने के बाद यदि बच्चा पूर्व प्रधान का ही निकलता है तो उसे नियमानुसार प्रॉपर्टी में हक दिलाया जाएगा। पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि महिला का परित्याग उसके पति द्वारा कर दिया गया था। उसके बाद पीड़िता पूर्व प्रधान के साथ रहने लगी और एक बेटे को जन्म दिया। परन्तु अब पूर्व प्रधान द्वारा भी उसका परित्याग कर दिया गया है उसे सम्पत्ति में हिस्सेदारी नहीं दी जा रही है। राजदेव बक्श सिंह निवासी शुकुलपुर कोट खास थाना खोड़ारे ने जिलाधिकारी को बताया कि न्यायालय द्वारा विपक्षियों की फर्जी प्रविष्टि को हटाने के आदेश के बाद भी विपक्षियों द्वारा उसकी जमीन पर अवैध कब्जा किया हुआ है तथा स्थानीय पुलिस मदद नहीं कर रही है। इस पर डीएम ने एसओ खोड़ारे को न्यायालय के आदेश का पालन न कराने पर कारण बताओ नोटिस जारी करने व अवैध कब्जा हटवाकर 15 दिनों के अन्दर रिपोर्ट देने व विपक्षियों के विरूद्ध वैधानिक कार्यवाही करने के आदेश दिए हैं।

 

वहीं ग्राम भवाजिदपुर थाना मनकापुर निवासिनी जोकि पिछले 08 वर्षो से अपना नाम खतौनी में दर्ज कराने के लिए तहसील के चक्कर लगा थी उसे डीएम ने आधे घन्टे के अन्दर पीड़िता को न्याय दिलाते हुए उसका नाम खतौनी में दर्ज कराकर स्वयं अपने हाथों से उसे खतौनी की नकल प्रदान की।

डीएम द्वारा लंबित शिकायतों की समीक्षा में 22 शिकायतें निस्तारण के लिए विभिन्न स्तरों पर लंबित मिली जिसपर डीएम ने नाराजगी व्यक्त करते हुए 05 दिसम्बर की शाम तक सभी शिकायतों को निस्तारित रिपोर्ट देने के आदेश सम्बन्धित अधिकारियों को दिए हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *