Gonda Colonelganj News: कोरोना को लेकर टूटी परम्परा डेढ़ सौ से अधिक वर्ष पुराना प्रसिद्ध श्री राम लीला का मंचन न हो सका

प्रशासन ने दो सौ की दी थी अनुमति श्रीराम व रावण युद्ध में जुटते थे लगभग पचास हजार श्रद्धांलू पूरे जिले की लगानी पडती थी फोर्स 

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

करनैलगंज,गोण्डा । करनैलगंज की प्रसिद्ध ऐतिहासिक श्रीराम लीला का मंचन व दशहरा करीब डेढ़ सौ वर्षो बाद कोरोना काल में इस वर्ष नहीं मनाया जाएगा। दशहरे के दिन करनैलगंज के रामलीला मैदान में होने वाले श्रीराम व रावण युद्ध को देखने के लिए करीब 50 हजार से अधिक दर्शकों की भीड़ हर साल उमड़ती थी। मगर इस वर्ष कोरोना काल के कारण करनैलगंज की ऐतिहासिक रामलीला का मंचन नहीं किया गया।

जब की रामलीला मंचन में दशहरे के एक दिन पहले फांसी नाटक का मंचन क्षेत्र का प्रसिद्ध मंचन होता है। जो शनिवार को आयोजित होता, मगर श्रीराम लीला का मंचन ना होने के कारण लोग निराश हुए। उधर दशहरे के दिन भगवान श्रीराम के विमान एवं रावण के विमान को रामलीला के मैदान में दौड़ कर पूरे मैदान में घूमते हुए अग्निबाणों की वर्षा के साथ श्रीराम रावण युद्ध देखने की लालसा लोगों में धरी की धरी रह गई। इस बार पूरे करनैलगंज में रामलीला का मंचन कोरोना के चलते नहीं किया गया।

वहीं नगर के विभिन्न दुर्गा पूजा पंडालों में विशाल जागरण का आयोजन होता रहा है। उसे भी स्थगित कर दिया गया। करनैलगंज की ऐतिहासिक रामलीला का मंचन करीब डेढ़ सौ से अधिक वर्ष पुराना है और यहां की सजीव रामलीला का मंचन देखने के लिए दूरदराज जिलों से दर्शकों की भीड़ उमड़ती थी। जो इस बार सन्नाटे में गुजरता जा रहा है।

श्री रामलीला कमेटी के अध्यक्ष हरि कुमार वैश्य, पूर्व अध्यक्ष रामजीलाल मोदनवाल, महामंत्री कन्हैया लाल वर्मा, मीडिया प्रभारी ज्ञान प्रकाश मिश्रा का कहना है कि शासन द्वारा अधिकतम 200 लोगों से अधिक की भीड़ एकत्र ना होने का आदेश दिया था। जिसके क्रम में रामलीला का मंचन प्रभावित हुआ। क्योंकि रामलीला के दौरान दर्शकों की संख्या करीब 25 से 50 हजार के आसपास पहुंच जाती, जिस पर काबू नहीं किया जा सकता था। इसलिए रामलीला का मंचन नहीं कराया गया।

उधर दुर्गा पूजा समितियों के सरदार जोगिंदर सिंह जानी, राजीव मोदनवाल, अंकित सिंघानिया, श्याम जी गुप्ता का कहना है कि नवरात्र की सप्तमी से लेकर दशमी तक पूरे नगर में जगह-जगह विशाल जागरण एवं भंडारे का आयोजन होता रहा है। जो इस बार नहीं हो सका और सभी तैयारियां कोरोना का शिकार हो गई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *