Lakhimpur Kheri News:नेपाल सरकार की रोक पर व्यापार हो रहा है चौपट

भारतीयों के लिए नेपाल बॉर्डर सील होने से भारतीय व्यापारियों में भारी रोष

एन.के.मिश्रा
पलियाकलां ( लखीमपुर खीरी )। नेपाल सरकार की सख्ती भारतीय व्यापारियों पर भारी पड़ती जा रही है। उधर, भारत सरकार नेपाल बॉर्डर पूरी तरह खोल चुकी है, लेकिन नेपाल सरकार ने सीमा पूरी तरह सील की हुई है। नेपाल सरकार की सख्ती से भारतीय सीमा के व्यापारियों में रोष है। भारतीय व्यापारी अब भारत व प्रदेश की सरकारों की तरफ उम्मीद भरी नजरों से देख रहे हैं। नेपाल सरकार द्वारा भारत नेपाल सीमा पूरी तरह सील किए जाने से बॉर्डर पर पड़ने वाली भारतीय मंडियां पूरी तरह सुनसान पड़ी हुई हैं। भारत सरकार बॉर्डर को खोलने के लिए नेपाल सरकार से बात करें इसकी उम्मीद भारतीय व्यापारी लगाए हुए हैं। आठ माह से बंद पड़े बॉर्डर के चलते भारतीय व्यापारी पूरी तरह कंगाल होते जा रहे हैं और दिवालिया होने पर आ चुकी है। जबकि गौरीफंटा थाना क्षेत्र के सूडां मंडी में नेपालियों से गुलजार होते भी देखा जा रहा है नेपाल के चोरी छुपे रास्तों से भारतीय मंडियों में नेपाल के कैरिंग महिलाएं पहुंच रही हैं और अपने से ज्यादा वजन का सामान भरकर केरिंग कर रही है वही गौरीफंटा के स्थित बंगवा मंडी में लॉकडाउन के बाद से बिल्कुल भी सन्नाटा पसरा हुआ है जानकारों की माने तो बताया जाता है कि गौरीफंटा से महज 5 किलोमीटर दूरी पर बनगवां मंडी उपस्थित है जहां पर नेपाल से बड़ी संख्या में नेपाली आकर अपने घर के लिए साधों सामान खरीदते हैं लेकिन जब से लागू लाकडाउन हुआ है तब से यहां पर इंसान तो दूर की बात है परिंदे भी नहीं दिखाई दे रहे हैं अगर यही हाल रहा तो जल्द ही बॉर्डर से अटैच कई मंडियां दिवालिया घोषित होने के कागार पर पहुंच जाएगी। जबकि कुछ व्यापारियों का लगभग सारा कुछ खत्म हो चुका है जिन्होंने पाई पाई जुटाकर अपने घर परिवार व बच्चों का भरण पोषण करने के लिए सपने देखे थे लेकिन करोना महामारी ने सभी सपनों पर पानी फेर दिया वही बनगवां व्यापारी के मंडी व्यापारियों ने सरकार से कई बार प्रार्थना पत्र के जरिए से खोलने के लिए आग्रह किया है लेकिन अभी तक खोलने के लिए दोनों देशों की तरफ से किसी भी अधिकारी पुष्टि नहीं हो पाई है। वही बनगवां के व्यापारी कहते हैं कि जिले की गौरीफंटा बॉर्डर पर नेपाली बे रोक-टोक भारत में आ जा रहे हैं, और भारतीयों को नेपाल जाने के लिए पूरी तरह से रोका जा रहा है। भारत नेपाल सीमा बंद होने से भारतीय व्यापार चौपट बना हुआ है। लोगों के आगे भुखमरी के हालात बनते जा रहे हैं। नेपाल सरकार की सख्ती के चलते भारतीय मंडियां पूरी तरह सुनसान पड़ी हुई हैं व्यापारी भारत सरकार व प्रदेश सरकार से उम्मीद लगाए हैं कि वह नेपाल सरकार से बात कर बॉर्डर को पूरी तरह खुलवाए जिससे भारतीय मंडियों में फिर से रौनक दिखे। वही दुसरे व्यापारी कहते हैं कि प्रशासनिक अधिकारियों को आगे आकर सरकार तक भारतीय व्यापारियों की समस्या को रखना चाहिए। जिससे सरकारें भारत-नेपाल बॉर्डर खुलवाने के लिए कदम आगे बढ़ाएं। इधर भारत- नेपाल बॉर्डर सील होने से भारतीय व्यापारियों में भारी रोष देखने को भी मिल रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *