Gonda Colonelganj News:निर्माणाधीन कृषि महाविद्यालय के निर्माण में देरी एवं लापरवाही देखकर कृषि मंत्री भड़क उठे उन्होंने  जिलाधिकारी से ठेकेदार को जेल भेजने और शीर्ष प्राथमिकता पर निर्माण कार्य कराने के निर्देश दिए

एसपी सिंह / ज्ञान प्रकाश मिश्रा

करनैलगंज(गोंडा)। करनैलगंज के मतस्य उद्यमिता प्रशिक्षण संस्थान परिसर में निर्माणाधीन कृषि महाविद्यालय के निर्माण में देरी एवं लापरवाही देखकर कृषि मंत्री भड़क उठे और उन्होंने  जिलाधिकारी से ठेकेदार को जेल भेजने और शीर्ष प्राथमिकता पर निर्माण कार्य कराने के निर्देश दिए। प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही ने सोमवार को करनैलगंज के मात्स्यिकी उधमिता एवं शोध संस्थान के परिसर में ही 2016 से निर्माणाधीन कृषि महाविद्यालय की प्रगति देखने पहुंचे तो वह  भौचक्के रह गए। जो स्थिति 2016 में थी उसी स्थिति में आज भी दोनों केंद्र पड़े हुए हैं, न तो मछली का पालन या प्रशिक्षण हो रहा है न ही कृषि महाविद्यालय का निर्माण पूरा हुआ।

 

इसे देख कृषि मंत्री आग बबूला हो उठे और वह सीधे ठेकेदार पर बरसने लगे। उन्होंने कहा कि इस कृषि महाविद्यालय के निर्माण के लिए अब तक भाजपा की सरकार द्वारा 17 करोड़ रुपए अवमुक्त किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि दो करोड़ रुपए की लागत से इसका निर्माण प्रारंभ हुआ था। उसके बाद भाजपा सरकार ने अलग-अलग मिलाकर 17 करोड़ का भुगतान किया है। तीन करोड़ मुक्त होना शेष है। मगर यहां निर्माण की स्थिति ठीक नहीं है। जिस पर जिलाधिकारी गोंडा से उन्होंने ठेकेदार के विरुद्ध कार्रवाई करने एवं इसका निर्माण शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि यह कार्य मुख्यमंत्री के शीर्ष प्राथमिकता में शामिल है।

इसमें किसी प्रकार की कोताही नहीं होनी चाहिए। मतस्य उधमिता प्रशिक्षण संस्थान की स्थिति बेहद खराब मिली। अब तक तालाब में मछली नही डाली गई और ना ही किसी प्रकार प्रशिक्षण हो रहा है। इसे देख मंत्री ने इसकी रिपोर्ट मुख्यमंत्री को देने की बात कही। मंत्री ने कहा कि कृषि महा विद्यालय का निर्माण छपिया तरबगंज में भी निर्माण शुरू हो गया है। करनैलगंज का एक सप्ताह पहले निरीक्षण कराया गया था। जिससे स्थिति स्पस्ट नही हुई। उन्होंने कहा कि सरकारी धन का दुरूपयोग हो रहा है जिसका कष्ट है और इसमे सामिल लोगों को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। किसानों को सम्बोधित करते हुए कहा कि सरकार द्वारा किसानों को जागरूक करने के लिए किसान पाठशाला लगाया गया। योगी की सरकार किसानों के लिए बेहतर काम कर रही है। प्रदेश के 825 विकास खंड में योजनाओं का विस्तार किया जा रहा है। अब नए सिरे से किसान किसान सम्मान निधि के लिए किसानों का सर्वे किया जाएगा। जिस किसान के पास थोड़ी भी जमीन है उसको भी किसान सम्मान निधि मिलेगी। गोंडा जिले में 333 सोलर पंप लगाया जा रहा है।

किसानों को जिले में कृषि यंत्रों पर 16 करोड़ 29 लाख का अनुदान दिया गया। केंद्र व राज्य सरकार किसान की आय दोगुना करने का काम कर रही है। वहीं विपक्षी इसका दुष्प्रचार कर रहे हैं। सरकार खाद व बीज की उपलब्धता सुनिश्चित करा रही है। वर्ष 2022 तक हर व्यक्ति के पास पक्का मकान होगा। सपा सरकार में इसी जिले के कृषि मंत्री ने सरकारी धन का दुरुपयोग किया। अब किसान की जिंदगी बेहतर बनाने का काम हो रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *