Lakhimpur Kheri News:राष्ट्रीय सेवा योजना का सात दिवसीय विशेष शिविर

एन.के.मिश्रा

लखीमपुर खीरी। राष्ट्रीय सेवा योजना के प्रथम सत्र में योग प्रशिक्षण के तहत योगाभ्यास तथा द्वितीय सत्र में ‘करें योग रहे निरोग ‘ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। शिविर में योग प्रशिक्षक प्रिंस रंजन बरनवाल, नूपुर गुप्ता प्रीति शुक्ला ,खुशी वर्मा, तथा प्रदीप शर्मा ने सभी एनएसएस स्वयंसेवकों के साथ ही प्राथमिक विद्यालय के कक्षा 4 व 5 के छात्र छात्राओं को योगाभ्यास कराया ।योगाभ्यास में सूर्य नमस्कार ,प्रज्ञा योग, पाद हस्तासन ताड़ासन ,मार्जरी आसन सहित विभिन्न प्राणायाम एवं बुद्धि विकास ध्यान सोहम का अभ्यास कराया। इसी क्रम में द्वितीय सत्र में ‘करे योग रहे निरोग ‘ विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया जिसमें आहार-विहार ,प्रतिरक्षा तंत्र ,ध्यान एवं शारीरिक ,मानसिक, आध्यात्मिक व सामाजिक स्तर पर स्वस्थ रहते हुए कार्य करने के उपायों पर विस्तृत चर्चा हुई। राष्ट्रीय सेवा योजना प्रभारी डॉ सुभाष चन्द्रा ने ‘करें योग ,रहे निरोग ‘कार्यशाला में विषय प्रवर्तन करते हुए कहा कि योग के माध्यम से विभिन्न रोगों से बचाव संभव है तथा इसके प्रतिदिन अभ्यास से निरोगी एवं सफल जीवन जिया जा सकता है। तथा आधुनिक जीवन में एलोपैथिक चिकित्सा पर पूर्ण निर्भर होने की बजाय योग आधारित चिकित्सा पद्धति से बिना धन व्यय किए खुशहाल जीवन जीना सहज रूप से संभव है। योग प्रशिक्षक प्रिंस रंजन बरनबाल ने कार्यशाला में उपस्थित विद्यार्थियों के स्वास्थ्य एवं विभिन्न कारणों से उत्पन्न तनाव से सम्बंधित सवालों का जबाब देते हुए जीवन मे योग की भूमिका को विस्तार से समझाया।इसीक्रम में उन्होंने बताया कि मनुष्य का अस्तित्व शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक है।योग इन तीनो के सन्तुलित विकास में मदद करता है। कार्यशाला में नेहा सिंह, अमृता वर्मा,मनप्रीत, प्रिया वर्मा, मोहम्मद सुलेमान, शौर्या मिश्रा, मनु बाजपेयी ने स्वास्थ से सम्बंधित समस्याओं को योग प्रशिक्षको के समक्ष रख कर उनके निवारण हेतु संबंधित योग क्रियाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की।कार्यशाला में श्रीमती मंजु गुप्ता के साथ समस्त शिक्षक एवं कर्मचारी उपस्थित रहे। इसीक्रम में –
विशेष शिविर के तीसरे दिन की कार्य योजना के प्रथम सत्र में आज दिनांक 21-03- 2021 को कोरोना से बचाव पर विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। विचार गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में महाविद्यालय के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ धीरेंद्र कुमार सिंह ने स्वयंसेवकों को बताया कि देश में कोरोना वायरस का संक्रमण फिर फैलने लगा है। सरकार की ओर से इससे बचाव के लिए गाइडलाइन जारी की गई है। तथा प्रशासन द्वारा बचाव संबंधी नियमों का पालन न करने वालों के खिलाफ अभियान चलाया जा रहा है। इसके साथ-साथ कोविड वैक्सीनेसन का कार्य भी विभिन्न चरणों में किया जा रहा है, ऐसे में सामुदायिक सेवा भावना के तहत स्वयंसेवकों की जिम्मेदारी है कि कोरोना महामारी से बचाव के लिए जागरूकता अभियान चलाकर आमजन को सजग और सतर्क रहने के लिए प्रेरित करें।विचार गोष्ठी में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ इष्ट विभु,डॉ ओम प्रकाश सिंह व श्री विजय प्रताप सिंह ने कोरोना वायरस से बचाव संबंधी उपायों के बारे में जानकारी देकर इसके प्रचार प्रसार के लिए स्वयंसेवकों को प्रेरित किया। तीसरे दिन की कार्ययोजना के द्वितीय सत्र में स्वयंसेवकों ने कोरोना महामारी से बचाव के लिए ग्राम बांसखेड़ा में चौपाल लगाकर ग्रामवासियों को जागरूक किया। चौपाल में एनएसएस प्रभारी डॉ सुभाष चंद्रा ने ग्राम वासियों को बताया कि कोरोना वायरस का संकट अभी खत्म नहीं हुआ है इसलिए सभी लोग कोरोना से बचाव के उपाय अपनाएं, फेस मास्क पहने ,दो गज की दूरी बनाए रखें। स्वयंसेवकों ने चौपाल में उपस्थित बच्चों व महिलाओं को हाथ धुलने के मानक तरीकों का प्रशिक्षण देखकर साबुन तथा फेस मास्क वितरित किए। एन एस एस स्वयंसेवक सौर्य मिश्रा,प्रतिभा, प्रिया, नेहा,कोमल,अमृता, रोशनी,अंजलि व ब्रजेश कुमार की टोली ने कोरोना से बचाव के लिए नुक्कड़ नाटक के माध्यम से ग्राम वासियों को फेस मास्क, हैंड वॉश तथा सोशल डिस्टेंसिंग के महत्व बताते हुए एक दूसरे के जीवन की सुरक्षा को ध्यान में रखकर कार्य करने व बाहर निकलते समय अनिवार्य रूप से फेस मास्क लगाने का संदेश दिया ।कार्यक्रम के अंत में विश्व वन दिवस के अवसर पर एनएसएस स्वयंसेवकों ने प्राथमिक विद्यालय में पौधारोपण कर उसकी सुरक्षा की जिम्मेदारी ली।और अपने अपने क्षेत्रों में लोगों को अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने के लिए प्रेरित करने का संकल्प लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *