Lakhimpur Kheri News:प्रधान पद का प्रत्याशी पुलिस हिरासत में

एन.के.मिश्रा

लखीमपुर खीरी।धर्म सभा इंटर कॉलेज में बनाए गए मतगणना केंद्र से एक प्रधान पद का प्रत्याशी 37 बैलट पेपर के साथ हिरासत में लिया गया है। उसने चुनाव में धांधली करने का आरोप लगाया है। उसका कहना है कि उसे जान बूझकर हरा दिया गया। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की है। अधिकारी जांच में जुट गए हैं। लेकिन अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि उसके पास बैलट पेपर कहां से आए। प्रत्याशी के अनुसार उसे बैलट पेपर पोलिंग बूथ के बाहर मिले थे।

लखीमपुर सदर ब्लाक की ग्राम पंचायत रुकुंदीपुर से मदनलाल वर्मा प्रधान पद के प्रत्याशी हैं। रविवार को धर्म सभा इंटर कॉलेज में बनाए गए मतदान केंद्र पर वह भी आया हुआ था। मतगणना के बाद जब मदनलाल वर्मा चुनाव हार गए तो उसने चुनाव में धांधली होने का आरोप लगाया। उसने कहा कि उसे जानबूझकर हरा दिया गया है। जब अधिकारियों ने उससे पूछा कि वह क्यों ऐसा कह रहा है तो मदनलाल ने 37 सादे बैलट पेपर निकले और अधिकारियों के सामने रख दिए। इससे अधिकारियों में हड़कंप मच गया। पुलिस ने उसे हिरासत में ले लिया और उसे कोतवाली ले आई। उधर मदन लाल वर्मा का कहना है कि उसको यह बैलट पेपर मतदान केंद्र से बाहर मिले थे।

कैसे मिले प्रत्याशी को बैलट, रहस्य बरकरार

जब कोई पोलिंग पार्टी मतदान केंद्र पर चुनाव कराने जाती है तो उसको लगभग उतने ही बैलट पेपर दिए जाते हैं , जितने उस मतदान केंद्र पर मतदाता हैं। फिर ये 37 बैलट पेपर प्रधान पद के प्रत्याशी को कैसे मिल गए। क्या पोलिंग पार्टी इन बैलट पेपरों को मतदान केंद्र पर छोड़ आई थी। अगर ऐसा हुआ है तो मतदान के दौरान बैलट पेपर कम पड़ गए होंगे। उनको कैसे पूरा किया गया होगा। प्रत्याशी का दावा है कि उसके पास 97 बैलेट पेपर हैं। आरओ /जिला कार्यक्रम अधिकारी का कहना है किजितने मत पड़े थे,उतने मतपत्र पेटी में मिले। प्रत्याशी ये मतपत्र कहां से लाया।इसकी जांच चल रही है। यह भी आशंका है कि ये मतपत्र छपवाए गए हों। बरामद मत पत्रों पर मुहर नहीं लगी थी। कोतवाल लखीमपुर ने बताया कि सादे बैलट पेपर मिलना एक अपराध है। गम्भीर मामला है। जांच की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *