Lakhimpur kheri News:पराक्रम दिवस के रूप में मनाई गई सुभाष जयंती

एन.के.मिश्रा

लखीमपुर खीरी। युवराज दत्त महाविद्यालय में आज  नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125 वीं जयंती पराक्रम दिवस के रूप में हर्षोल्लास के साथ मनाई गई।इस अवसर पर एसोसिएट प्रोफेसर डॉ सुभाष चंद्रा के निर्देशन में राष्ट्रीय सेवा योजना की टैगोर इकाई द्वारा स्वतंत्रता संग्राम में सुभाष चंद्र बोस का योगदान विषय पर भाषण प्रतियोगिता व एन.एस.एस टैगोर वाटिका में वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। भाषण प्रतियोगिता में महाविद्यालय के सभी कक्षाओं के छात्र-छात्राओं ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया।तथा स्वतंत्रता संग्राम में सुभाष चंद्र बोस के योगदान के विभिन्न आयामों पर अपने अपने विचार व्यक्त किए।कार्यक्रम में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ नूतन सिंह, डॉक्टर ज्योति पंत ,असिस्टेंट प्रोफेसर  विजय प्रताप सिंह व असिस्टेंट प्रोफेसर  दीपक बाजपेई ने निर्णायक मंडल के सदस्य के रूप में सक्रिय योगदान दिया।भाषण प्रतियोगिता के विजेताओं में आलोक कुमार ने प्रथम विमलेश कुमार व सौरभ शुक्ला ने संयुक्त रूप से द्वितीय स्थान तथा आशीष कुमार मिश्रा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। इसी क्रम में साहिबा, प्रवीण व ब्रजेश मिश्रा क्रमश:चतुर्थ व पंचम स्थान पर रहे। भाषण प्रतियोगिता के अंत में एसोसिएट प्रोफेसर डॉ डीके सिंह व डॉ विशाल द्विवेदी ने छात्र-छात्राओं को संबोधित करते हुए कहा कि नेताजी सुभाष चंद्र बोस का संपूर्ण जीवन उनके पराक्रम और शौर्य की गौरव गाथा है ।हम सबको उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए। प्राचार्य डॉ. मालपानी ने विजेता छात्र-छात्राओं को पुरस्कृत कर बधाई देते हुए कहा कि सभी छात्र छात्राओं को अपने विषयों की पाठ्य सामग्री के साथ-साथ महापुरुषों के जीवन दर्शन एवं राष्ट्र के प्रति योगदान को जानना चाहिए। जिससे भविष्य निर्माण में सहायता मिलती है। नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा आजाद हिंद फौज को दिया गया नारा आज समस्त भारतीय सशस्त्र बलों में अभिवादन के रूप में स्वीकार है।वास्तव में नेताजी सुभाष चंद्र बोस का जीवन दर्शन मातृभूमि के लिए त्याग एवं संघर्ष का अप्रियतम उदाहरण है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *