Gonda News:अनाथ बच्चों के सहारा बने डीएम, चौबीस घण्टे के अन्दर दिलाई अहेतुक सहायता

कोरोना काल में एक ही परिवार से हुई थी पांच मौते 
अनाथ बच्चों के सहारा बने डीएम, चौबीस घण्टे के अन्दर दिलाई अहेतुक सहायता
राम नरायन जायसवाल
गोण्डा। डीएम मार्कण्डेय शाही की संवेदनशीलता के कारण कोरोना काल में अपने मां-बाप सहित परिवार के 05 लोगों को खो देने वाले ग्राम चकरौत निवासी गौरव व उसकी बहन को 24 घन्टे के अन्दर मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना का लाभ मिल गया है।
     बताते चलें कि रविवार 03 अक्टूबर को मुख्यमंत्री जन आरोग्य मेले के औचक निरीक्षण के दौरान डीएम मार्कण्डेय शाही द्वारा विकासखण्ड करनैलगंज अन्तर्गत प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र चकरौत का औचक निरीक्षण किया गया था। उसके बाद डीएम ने ग्राम चकरौत के ही एक परिवार में कोरोना संक्रमण से मृतक हुए पांच लोगों के घर पहंुचे। इस गांव के रहने वाले स्व0 अश्वनी प्रताप श्रीवास्तव सहित परिवार के पांच लोगों की कोविड-19 से मृत्यु हो गई थी। डीएम ने स्व0 अश्वनी प्रताप श्रीवास्तव के बेटे गौरव तथा बेटी अदिति से मिलकर अहेतुक सहायता के बारे में जानकारी ली थी।
     सोमवार को डीएम के निर्देश पर जिला प्रोबेशन अधिकारी राजेश सोनी द्वारा बेटी अदिति के खाते में मुख्यमंत्री बाल सेवा योजना के तहत चार हजार की दर से तीन माह की तीन किस्तें कुल 12 हजार रुपए खाते में भेज दिए। इसी प्रकार शासनादेश के अनुसार 18 वर्षीय बालिग बेटे गौरव श्रीवास्तव की पढ़ाई के लिए ढाई हजार रूपए प्रतिमाह की दर से 23 वर्ष तक के लिए अहेतुक सहायता स्वीकृत कर दी गई। जिलाधिकारी के इस संवेदनशील प्रयास पर कोरोना संक्रमण से दिवंगत स्व0 अश्वनी प्रताप की बेटी व बेटे ने डीएम का धन्यवाद ज्ञापित किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *