Balrampur News:मुख्यमंत्री शादी अनुदान में हुए फर्जीवाडे के मामले में दो ग्राम पंचायत अधिकारी निलम्बित एफआईआर के आदेश

एक ही गांव में 63 मे से 60 लाभार्थी जांच में मिले फर्जीसदर विकास खण्ड के खण्ड विकास अधिकारी को कारण बताओ नोटिस

कम्प्यूटर ऑपरेटर की सेवा समाप्ति की नोटिस जारी

रवि श्रीवास्तव
बलरामपुर। बलरामपुर में मुख्यमंत्री शादी अनुदान योजना में बड़े पैमाने पर फर्जीवाड़ा किया गया है। जांच के दौरान एक ही गांव में 63 में से 60 लाभार्थी फर्जी पाये गये। पूरे फर्जीवाड़े में दलालों, अधिकारियों और कर्मचारियों की मिली भगत से सरकार की इस महात्वाकांक्षी योजना का पैसा डकार लिया गया। जांच हुई तो पहले 60 फर्जी लाभार्थियों से 12 लाख रूपये की वसूली हुई। अब जांच के बाद शादी अनुदान में फर्जीवाड़ा करने के मामले में ग्राम पंचायत अधिकारी वेद प्रकाश सिंह व ग्राम विकास अधिकारी नीलेश श्रीवास्तव को निलंबित कर दिया गया है और जिलाधिकारी के आदेश पर दोनों अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिये गये हैं। इसके अलावा सदर विकास खंड के खंड विकास अधिकारी राजेश कुमार को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है जबकि ब्लाक के कम्प्यूटर आॅपरेटर अवनीश तिवारी को सेवा समाप्ति के लिए नोटिस जारी किया गया है।

बता दे कि सामाजिक कार्यकर्ता अशोक कुमार ने नवम्बर 2020 में प्रधानमंत्री और मुख्यमंत्री को शिकायत शादी अनुदान में हुए घोटाले की शिकायत की थी। मुख्यमंत्री हेल्पलाइन पर मामले का संज्ञान लेने के बाद जिला प्रशासन में हड़कम्प मच गया। आनन फानन में जांच कराई गई तो पता चला की वर्ष 2019-20 के दौरान शादी अनुदान योजना के लिए नंदनगर ठठिया गांव से कुल 63 लड़कियों के परिवारों ने आवेदन किया था। जांच के दौरान 63 में से 60 अपात्र पाये गये। जिसमें से 24 लाभार्थी पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग, 29 लाभार्थी अल्पसंख्यक कल्याण विभाग और 7 आवेदन समाज कल्याण विभाग के हैं। सूबे की योगी सरकार प्रदेश में लड़कियों की शादी पर 20 हजार रूपये का अनुदान देती है। इसके लिए बस लड़कियों के परिजनों को ब्लाक स्तर पर आवेदन करना होता है। फिर सत्यापन के बाद लड़कियों की जाति के अनुसार संबंधित विभाग उसके पिता के खाते में 20 हजार की सहायता राशि भेज देता है। मामले में जिला कृषि अधिकारी व बीडीओ गैसड़ी को जांच अधिकारी नामित किया गया है।

मामले में मुख्य विकास अधिकारी अमनदीप डुली का कहना है कि इस फर्जीवाड़े में यदि और भी किसी के शामिल होने की बात सामने आती है तो उसके खिलाफ भी कठोर कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *