Lakhimpur Kheri News:रमन कश्यप के घर पर मौन धरने पर बैठे सिद्धू अफसर मनाते रहे नही मान रहे सिद्धू

अफसर मनाते रहे नही मान रहे सिद्धू
एन के मिश्रा 
 निघासन (लखीमपुर खीरी)।शुक्रवार शाम छह बजे तिकुनियां मामले में मृतक कस्बे के पत्रकार रमन कश्यप के घर पर माहौल काफी गरमा गया। पंजाब के एक कैबिनेट मंत्री, तीन एमएलए व कई जिला कांग्रेस पदाधिकारियों के साथ पहुंचे नवजोत सिंह सिद्धू परिवार के साथ बातचीत के बाद घर के बाहर धरने पर बैठ गए। उन्होंने मंत्री के इस्तीफे और उनके बेटे की गिरफ्तारी तक आमरण मौन धरना जारी रखने का ऐलान किया। इससे वहां मौजूद अफसरों के हाथ-पैर फूल गए। उनको मनाने को अफसर जुटे रहे।
शुक्रवार शाम करीब पौने छह बजे पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष रहे नवजोत सिंह सिद्धू, वहां की कांग्रेस सरकार के लोक निर्माण मंत्री विजेंद्र सिंगला, चार विधायकों राजकुमार चब्बेवाल, कुलजीत सिंह नागरा, रविंदर सिंह और मदनलाल जलालपुर, पटियाला जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष गुरदीप सिंह पटियाला, कोषाध्यक्ष गौरव संधू और अपने ओएसडी सुमित सिंह के साथ रमन कश्यप के घर पहुंचे। करीब बीस मिनट घर के कमरे में रमन की पत्नी, माता-पिता और भाइयों से बात करके घटना व हालात की जानकारी ली। उनको सांत्वना देकर पूरी मदद का आश्वासन दिया। घर के बाहर निकलते ही वह बाहर पड़े टिनशेड के नीचे पड़े तख्त पर धरना देकर बैठ गए।
उन्होंने घोषणा की कि तिकुनियां मामले में गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी के इस्तीफे और उनके बेटे आशीष मिश्र मोनू की गिरफ्तारी होने तक वह भूख हड़ताल पर यहीं बैठे रहेंगे। यह सुनकर वहां मौजूद अफसरों के हाथ-पैर फूल गए। मौके पर लगाए गए लखनऊ के आईपीएस अफसर सुनील कुमार सिंह, गोला एसडीएम अखिलेश यादव और निघासन एसडीएम ओमप्रकाश गुप्ता सिद्धू को मनाने में जुटे रहे लेकिन वह नहीं माने। उन्होंने अपनी मांगें पूरी होने तक मौन व्रत रखने की भी घोषणा की और इसके बाद वह उसी तख्त पर लेट गए। घरवालों ने उनके लिए बिस्तर आदि बिछाकर पंखा लगा दिया। उनके बाकी साथी भी वहीं कुर्सियां डालकर बैठे रहे। करीब साढ़े छह बजे सीडीओ अनिल सिंह भी मौके पर पहुंचे। समाचार लिखे जाने तक वह वहीं लेटे थे और अफसर उनको मनाने में जुटे थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *