Lakhimpur Kheri News: सरकारी बसों की सुविधा ना मिलने से डग्गामार वाहनों के मनमाने किराए से नगरवासी परेशान

एन.के.मिश्रा

पलिया कला, लखीमपुर खीरी। भारत नेपाल की तराई पर बसे गौरीफंटा, बसही,सम्पूर्णानगर,और खजुरिया से प्रदेश की राजधानी लखनऊ को जाने वाली आधा दर्जन रोडवेज़ बसें रीजनल मैनेजर हरदोई की खाऊ कमाऊ नीति के चलते विगत 8 महीने से पूरी तरह बंद है।

जिससे लोगों को भारी परेशानियां उठानी पड़ रही है यही नहीं सरकारी सुविधाएं तो वंचित रही गई हैं लेकिन डग्गामार वाहन व बसों में मन मुताबिक किराया लोगों से वसूला जा रहा है और वसूला भी क्यों ना जाए जब सरकारी सुविधाएं होने के बावजूद भी लोगों को वंचित किया जा रहा है।

यह सब परिवहन निगम में बैठे अधिकारी सब जान कर भी अंजान बने बैठे हैं वही लोगों ने इस पर आक्रोशित होते हुए नगर की व्यवस्था फिर से बहाल करने के लिए विरोध जताया है। बसें बंद होने से नगर सहित बॉर्डर इलाके के नेपाली यात्रियों को भी अधिक पैसा खर्च कर डग्गामार प्राइवेट बसों का सहारा लेकर ही राजधानी तक का सफर करना पड रहा है।

गोला डिपो के क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले नेपाल बॉर्डर गौरीफंटा, बसही, खजुरिया, चंदन चौकी, तथा सम्पूर्णानगर से लखीमपुर गोला, हरदोई, सीतापुर, शाहजहांपुर तथा कैसरबाग डिपो की बसें जो करोना काल से पहले राजधानी तक की सेवाएं देती थी।

इधर करोना काल के बाद जब से बस सेवा शुरू की गई हैं तभी से कानपुर लखनऊ सीतापुर हरदोई लखीमपुर वाया पलिया की बसों को हरदोई डिपो के रीजन मैनेजर ने डग्गामार बस वालो के दबाव में बंद करा रखी दिया है, जबकि प्राइवेट बस यूनियन की 200 से अधिक बसें विभिन्न क्षेत्रों में चलाई जा रही हैं लेकिन रीजनल मैनेजर कि खाऊ कमाऊ नीति के चलते पूरी तरह से बंद है।

जिससे बॉर्डर एरिया से लखनऊ समेत कानपुर तक की यात्रा करने वाले यात्रियों को वाजिब किराए से दुगुना पैसा खर्च कर धक्का-मुक्की का सफर कराया जा रहा है।

इधर लखीमपुर की सामाजिक संस्थाऐ प्रकृति संवेदना सेवा समिति, श्री कुल सेवा समिति व सुंदरकांड समाज सेवा मंडल द्वारा मौखिक व पत्राचार कर तथा फोन से रीजनल मैनेजर रोडवेज डिपो हरदोई को अवगत कराने के साथ विनय पूर्वक उनसे लखीमपुर तथा पलिया रोड पर बसें चलाने का अनुरोध किया गया लेकिन वह एक ही बहाना करके इस रोड पर बसे नहीं चला रहे हैं और कहते है कि हमारी बसों में यात्री नहीं बैठते जबकि वार्ड एरिया से प्रतिदिन हजारों यात्री कानपुर बरेली लखनऊ सीतापुर सहित देश व प्रदेश के विभिन्न इलाकों में बसों के द्वारा सफर करते हैं।

इस क्षेत्र मे ट्रेनें पूरी तरह बंद है, ऐसे में यात्रियों को अधिक पैसा व समय खर्च कर प्राइवेट यूनियन के खटारा बसों में सफर करना पड़ रहा है जिससे समय के साथ धन की बर्बादी हो रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *