Gonda Dhanepur News: मुजेहना में स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर बनाने के लिए अधिवक्ता ने सौंपा ज्ञापन

उमापति गुप्ता

मुजेहना ,गोण्डा ।जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में बने स्वास्थ्य केंद्रों की जर्जर स्थिति को लेकर हाईकोर्ट अधिवक्ता ने देवी पाटन मण्डल आयुक्त को ज्ञापन देकर स्वास्थ्य सेवायें बेहतर बनाने की मांग की है।बताते चलें की इटियाथोक एवं मुजेहना ब्लॉक क्षेत्र में कई स्वास्थ्य केंद्र ऐसे पाये गए जिनमे ना तो डॉक्टर स्टाफ की तैनाती है और ना ही साफ सफाई की ब्यवस्था बेहतर पाई गयी।


मुजेहना क्षेत्र के बनगाई के प्राथमिक स्वस्थ केंद्र की बदहाली को सुधारने के लिए इससे पूर्व मुख्य चिकित्सा अधिकारी सहित जिले के सभी उच्चाधिकारियों को पत्र दिया जा चुका है।किन्तु उस पर प्रभावी कार्यवाही होती दिखाई नही दे रही है।केंद्र परिसर में व्याप्त गन्दगी छत के टपकता पानी,जल भराव की समस्या तथा मरीजों के बेड की चादर गन्दी पाई गयी थी।यही नही इटियाथोक क्षेत्र के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भी यही स्थित बनी है।

अब से कुछ वर्ष पहले इटियाथोक के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तीन सौ मरीजों के बेड की उपलब्धता अथवा नए भवन का निर्माण तो कराया गया था।किन्तु आज तक उसका संचालन सुनिश्चित नही किया जा सका।इसी तरह परसिया बहोरी स्थित उप स्वास्थ्य की स्थिति भी अत्यंत दयनीय पाई गयी।उसमे कई वर्षों से ताला लटक रहा है।परिसर में घास फूस और झाड़ियाँ उग चुकी हैं।स्थानीय लोगों द्वारा भवन को लकड़ी कण्डा रखने के लिए उपयोग में लिया जा रहा है।


ऐसी परिस्थिति में जब पूरा देश कोविड जैसी महामारी से जूझ रहा है तो ऐसे में सरकारी स्वास्थ्य सेवाएं बेहतर ना होने की वजह से क्षेत्र वासियों को झोला छाप डॉक्टरों की शरण लेनी पड़ रही अपनी जेब भरने के चक्कर में झोलाछाप डॉक्टर कई जिंदगियों से खेल चुके है।श्री मिश्र ने अपने ज्ञापन में कहा है की 30 दिनों के भीतर इटियाथोक अथवा मुजेहना
ब्लॉक क्षेत्र में जितने भी प्राथमिक अथवा सामुदायिक, उप स्वास्थ्य केंद्र बने है सभी का उचित प्रबन्धन और संचालन सुनिश्चित कराया जाए।यदि अपेक्षित परिणाम 30 दिवस के भीतर नही मिलता है तो बृहद जनांदोलन की चेतावनी भी दी गयी है।


उन्होंने यह भी कहा है की शिक्षा और स्वास्थ्य के लिए बेहतर ब्यवस्था संचालन सरकार की जिम्मेदारी है। कोविड के इस दौर में सरकार तो सतर्क रही लेकिन जिला प्रशासन अथवा क्षेत्र के जिम्मेदार लोगों की उदासीनता के चलते सरकार की मंशा पूरी नही हो पा रही है।मौके पर अधिवक्ता गणेश नाथ मिश्र सहित उनके सहयोगी अविनाश शुक्ल,रोहित मिश्र राम गोपाल वर्मा,राजेश कुमार मिश्र तथा कई अधिवक्ता साथी भी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *