Lakhimpur Kheri News:हाईकोर्ट ने उत्तरांचल त्रासदी में लखीमपुर के मरने वाले श्रमिकों का लिया संज्ञान

एन.के.मिश्रा

प्रसपा प्रदेश महासचिव राजीव गुप्ता की जनहित याचिका पर हुई सुनवाई

लखीमपुर खीरी ।जल प्रलय में तहसील निघासन के मृतक मज़दूरो के परिजनों को न्याय दिलाने के लिया राजीव गुप्ता ने न्यायिक लड़ाई की शुरूआत कर दी है।राज्य सरकार की ओर से एडवोकेट ने तीन सप्ताह का समय माँगा है। हाईकोर्ट में लिखित जबाब आने के बाद तीन सप्ताह बाद होग़ी सुनवाई फिर होगी।प्रवासी श्रमिकों के परिजनों की ओर से तिकुनिया निवासी समाजसेवी राजीव गुप्ता पैरोकार है। दूसरी तरफ़ भारत सरकार के सचिव ,उत्तर प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव ,प्रमुख सचिव ,राहत आयुक्त एवं लखीमपुर के ज़िलाधिकारी को बनाया पक्षधर बनाया गया है ।हाईकोर्ट ने सभी पक्षधर को सही मानते हुए नोटिस जारी किया है।
उत्तर प्रदेश के प्रवासी श्रमिको की सूची जो 90 मृतक में से 34 तहसील निघासन से ताल्लुक़ रखते है। जिन में से एक नेपाल का निवासी है जो तिकुनिया में रहता था। दूसरा शाहजहापुर के निवासी तिकुनिया में अपने ससुराल में रहते थे।
राजीव गुप्ता ने हाईकोर्ट से माँग की है कि मृतक श्रमिकों को 25 लाख का मुआवज़ा ,रहने के लिए एक आवास ,नज़दीक बेलराया चीनी मिल में रोज़ मर्रे के खर्च के लिए नौकरी की बात राखी है।फ़रवरी में जल प्रलय होने के कारण निघाशन के 34 अब 32 श्रमिकों की मौत हुई थी। जिस पर न्यायधीश रितु राज अवस्थी एवं दिनेश कुमार सिंह की डबल बेंच में सुनवाई हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *