Lakhimpur Kheri News:विक्रेताओं ने किया उर्वरक का डायवर्जन तो प्रशासन कराएगा एफआईआर

एन.के.मिश्रा
लखीमपुर खीरी। डीएम महेंद्र बहादुर सिंह ने कलेक्ट्रेट में दोपहर 12:30 बजे ज़िले में निर्धारित दरों पर गुणवत्तापूर्ण उर्वरक उपलब्ध कराए जाने हेतु जनपद स्तरीय समिति की बैठक की, संबंधित को जरूरी निर्देश दिए।
बैठक की अध्यक्षता करते हुए डीएम ने कहा कि किसानों के लिए आया उर्वरक कहीं और डायवर्ट हुई तो उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए एफआईआर कराकर सीधे जेल भेजेंगे।किसानों को निर्धारित दरों पर गुणवत्तापूर्ण उर्वरक उपलब्ध कराना शासन की शीर्ष प्राथमिकता है। बैठक में उर्वरकप्रदाता कंपनी प्रतिनिधियों ने कहा कि जिले में यूरिया, एनपीके, डीएपी की कोई कमी नहीं है, आगे भी निर्बाध रूप से सप्लाई बनी रहेगी। उन्होंने निर्देश दिए कि जिला कृषि अधिकारी व एआर सहकारिता खाद विक्रेताओं की दुकानों का स्थलीय निरीक्षण करके उनका स्टाक देखें। उन्होंने अफसरों को आगे भी उर्वरक की सप्लाई निर्बाध रूप से जारी रखने के जरूरी निर्देश दिए। उन्होंने एआर कोऑपरेटिव को निर्देश दिए कि प्रत्येक सहकारी समिति पर उर्वरक की उपलब्धता बनी रहे, इसके लिए अतिरिक्त वाहनों को लगाकर खाद की आपूर्ति सुनिश्चित कराए।
बैठक में डीएम ने खीरी में उर्वरकों की सप्लाई कर रही 15 उर्वरक प्रदायकर्ता कंपनियों के प्रतिनिधियों से यूरिया, डीएपी, एनपीके व एमओपी के मोमेंट प्लान के सापेक्ष आपूर्ति की विस्तृत समीक्षा की। उन्होंने कंपनीवार उर्वरकों के प्लान, आपूर्ति एवं आपूर्ति से अवशेष मात्रा की जानकारी ली।
उन्होंने उर्वरक प्रदाता एजेंसियों से थोक व फुटकर विक्रेताओ की संख्या जानी।
बैठक में यूरिया प्रदाता एजेंसियो ने गोला में रैक पॉइंट बनाए जाने की मांग की, इस पर सीडीओ अनिल सिंह ने कहा कि वह डीएम के स्तर से अपर मुख्य सचिव कृषि को इस आशय का पत्र भिजवाएंगे। सीडीओ ने कहा कि सभी उर्वरक प्रदाता एजेंसियां माह मार्च 2022 तक उर्वरक की निर्बाध आपूर्ति हेतु कार्ययोजना बना लें। आपूर्ति में किसी प्रकार की कोई समस्या ना आए। बैठक में जिला कृषि अधिकारी अरविंद चौधरी, एआर कोऑपरेटिव सूर्य नारायण मिश्रा, डीसीओ बृजेश पटेल सहित जिले को उर्वरकप्रदाता एजेंसियो के प्रतिनिधि मौजूद रहे।
*नियत रेट से ज्यादा उर्वरक के मांगे पैसे तो बनाए वीडियो, प्रशासन दर्ज कराएगा एफआईआर : डीएम*
जिलाधिकारी महेंद्र बहादुर सिंह ने कहा कि जनपद खीरी में कहीं भी नियत रेट से ज्यादा उर्वरक के पैसे मांगने पर वह वीडियो बना ले, प्रशासन ऐसे मामलों में संबंधित विक्रेता पर एफआईआर दर्ज कराकर सीधे जेल भेजा जाएगा।
*कंट्रोल रूम में दर्ज कराएं उर्वरक संबंधित शिकायतें*
जिला कृषि अधिकारी अरविंद चौधरी ने बताया कि जिले के किसी भी किसान को उर्वरक संबंधी कोई समस्या एवं शिकायत होने पर जिला कृषि अधिकारी कार्यालय में स्थापित कंट्रोल रूम के नंबर 8400082999 पर प्रातः 9:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक दर्ज कराकर निदान करा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *