Lakhimpur Kheri News:राष्ट्रीय लोक अदालत में हुआ 21931 वादों का निस्तारण

एन.के.मिश्रा

लखीमपुर खीरी। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, लखीमपुर-खीरी के जनपद न्यायाधीश व अध्यक्ष मुकेश मिश्रा के मार्गदर्शन में 10 जुलाई दिन द्वितीय शनिवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, लखीमपुर-खीरी द्वारा दीवानी न्यायालय परिसर, लखीमपुर-खीरी में व जनपद की तहसील विधिक सेवा समितियों द्वारा अपने-अपने तहसील परिसर में 10 जुलाई 2021 को ‘‘राष्ट्रीय लोक अदालत ’’ का आयोजन हुआ। इसमें कुल 21931 वादों का निस्तारण किया गया। उक्त आशय की जानकारी जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव कर्णिका अवध ने दी।

कार्यक्रम की शुरूवात मा. जनपद न्यायाधीश मुकेश मिश्रा, प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय कुलदीप सक्सेना, पीठासीन अधिकारी, मोटर दुर्घटना अधिकरण लोकेश राय,अपर जिला जज-प्रथम अनिल कुमार, नोडल अधिकारी ‘‘राष्ट्रीय लोक अदालत’’/अपर जिला जज-तृतीय रामेन्द्र कुमार व सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, लखीमपुर-खीरी श्रीमती कर्णिका अवध की उपस्थिति में ‘‘राष्ट्रीय लोक अदालत’’ का शुभारंभ मां सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित कर किया।

उन्होंने बताया कि इस अवसर पर जनपद के विभिन्न न्यायिक अधिकारियों व राजस्व अधिकारियों ने प्रीलिटीगेशन एवं विभिन्न प्रकार के लम्बित कुल 21931 वाद आपसी सुलह समझौते/संस्वीकृति के आधार पर निस्तारित किये गये। जिसमें से जनपद न्यायालयों एवं वाह्य न्यायालयों के द्वारा निस्तारित 4162 फौजदारी वादों में रू. 9,61,071.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ, 118 मोटर दुर्घटना प्रतिकर वादों में रू. 3,97,36,234.00 बतौर प्रतिकर के रूप में पीड़ित व्यक्तियों को दिलाये गये व जनपद की तहसील विधिक समिजियों के द्वारा राजस्व न्यायालयों एवं अन्य प्रकृति के कुल 17206 वादों का निस्तारण किया। बैंक सम्बन्धी कुल 186 वादों का सुलह-समझौते व संस्वीकृति के आधार पर निस्तारण कर कुल रू. 1,97,02,550.00 वसूल किये।

जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की सचिव श्रीमती कर्णिका अवध ने बताया कि राष्ट्रीय लोक अदालत के अवसर पर जनपद न्यायाधीश मुकेश कुमार मिश्र के न्यायालय में निस्तारित 06 वादों में से फौजदारी के 05 वादों व दीवानी के 01 वाद का निस्तारित करते हुए रू. 2,500.00 बतौर प्रतिकर पीडित व्यक्तियों को दिलाये। प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय, कुलदीप सक्सेना के न्यायालय में वैवाहिक/भरण पोषण सम्बन्धी पति-पत्नी के 05 वाद निस्तारित हुए। पीठासीन अधिकारी, मोटर दुर्घटना दावा अधिकरण लोकेश राय ने मोटर दुर्घटना प्रतिकर के निस्तारित 118 वाद में रू. 3,97,36,234.00 बतौर प्रतिकर पीडित व्यक्तियों को दिलाये। अपर जिला जज-प्रथम अनिल कुमार के न्यायालय में निस्तारित 03 वादों में से फौजदारी के 02 वाद व दीवानी के 01 वाद निस्तारित हुए वादों में रू. 1,500.00 बतौर प्रतिकर पीडित व्यक्तियों को दिलाये। अपर जिला जज-द्वितीय विनोद कुमार सिंह के न्यायालय निस्तारित 06 वादों में से फौजदारी के निस्तारित 06 वाद में रू. 2,000.00 अर्थदण्ड़ वसूला। अपर जिला जज-तृतीय रामेन्द्र कुमार के न्यायालय निस्तारित फौजदारी के 01 वाद में रू. 500.00 अर्थदण्ड़ वसूला। अपर जिला जज-चतुर्थ/विशेष न्यायाधीश मोहन कुमार के न्यायालय में निस्तारित 177 वादों में से फौजदारी के 01 वाद रू. 500.00 अर्थदण्ड़ वसूला एवं एन0आई0एक्ट सम्बन्धी 176 वादों का निस्तारित हुए। अपर प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय-प्रथम पवन कुमार शुक्ला के न्यायालय में वैवाहिक/भरण पोषण सम्बन्धी पति-पत्नी के 12 वाद निस्तारित हुए। अपर प्रधान न्यायाधीश, परिवार न्यायालय-तृतीय श्रीमती स्नेहा नेगीके न्यायालय में वैवाहिक/भरण पोषण सम्बन्धी पति-पत्नी के 08 वाद निस्तारित हुए। अपर जिला जज-पंचम् परशु राम के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 02 वादों रू. 1,000.00 अर्थदण्ड़ वसूला। अपर जिला जज-एकादशम् राम लाल के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 08 वादों रू.4,000.00 अर्थदण्ड़ वसूला। अपर जिला जज-़त्रयोदशम्
राजेश कुमार मिश्रा के न्यायालय में फौजदारी के 04 वादों का निस्तारण किया। अपर जिला जज/एफ0टी0सी0 विकाश श्रीवास्तव के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 08 वाद में रू. 5,000.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर जिला जज/न्यू एफ0टी0सी दीपेन्द्र कुमार सिंह के न्यायालय में फौजदारी के निस्तारित 01 वाद में रू0 5,00.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। मुख्य न्यायिक मजि0 चिन्ता राम के न्यायालय में निस्तारित 1424 फौजदारी वादों में रू. 3,68,725.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। सिविल जज(व0प्र0) नितिन कुमार के न्यायालय में निस्तारित 25 वादो में से दीवानी के 18 वाद एवं उत्तराधिकार के रू. 48,64,012.00 की राशि के निस्तारित हुये। अपर मुख्य न्यायिक मजि0-प्रथम अविनाश चन्द्र गौतम के न्यायालय में निस्तारित 322 फौजदारी वादों में रू. 63,750.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर सिविल जज(व0प्र0) श्रीमती छवि कुमारी के न्यायालय में दीवानी वादों से सम्बन्धित 12 वादों का निस्तारण हुआ। अपर मुख्य न्यायिक मजि0-तृतीय श्रीमती मोना सिंह के न्यायालय में निस्तारित 393 फौजदारी वादों में रू. 16,500.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। सिविल जज(व0प्र0)/ एफ0टी0सी0 सावन कुमार विकास के न्यायालय में निस्तारित 118 फौजदारी वादों में रू. 30,225.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। सिविल जज(क0प्र0) सुश्री एकता सिंह के न्यायालय में निस्तारित 13 वादों में से दीवानी के 06 वादों में रू. 30,225.00 अर्थदण्ड एवं उत्तराधिकार के रू. 5,06,883.00 की राशि के 07 वाद निस्तारित हुये। न्यायिक मजिस्ट्रेट सुश्री दीक्षा भारती के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 512 वादों में रू. 3,24,530.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर सिविल जज(क0प्र0)-प्रथम अभिषेक सिंह के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 313 वादों में रू. 16,575.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर सिविल जज(क0प्र0)-तृतीय सुश्री रेखा रावत के न्यायालय में दीवानी का 01 वाद निस्तारित हुआ। अपर सिविल जज(क0प्र0)-चतुर्थ सुश्री शिल्पी सिंह के न्यायालय में दीवानी के 02 वादों का निस्तारण हुआ। अपर सिविल जज(क0प्र0)-पंचम धर्मेन्द्र सिंह के न्यायालय में फौजदारी के 220 वादों में रू. 3,910.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। सिविल जज(क0प्र0)/एफ0टी0सी0 (महिला) अभय राजवंशी के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 153 वादों में रू. 42,400.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर सिविल जज(क0प्र0)-अष्टम् सुश्री आकांक्षा जायसवाल के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 138 वादों में रू. 14,830.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। अपर जिला जज, मोहम्मदी सुरेन्द्र पाल सिंह के न्यायालय में निस्तारित फौजदारी के 01 वाद में रू. 500.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ। सिविल जज(व0प्र0)/अपर मुख्य न्यायिक मजि0-मोहम्मदी सुश्री रूची श्रीवास्तव के न्यायालय में निस्तारित 232 वादों में से फौजदारी के 229 वादों में रू. 21,226.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ व उत्तराधिकार के 03 वादों का निस्तारण किया गया। सिविल जज(क0प्र0)-मोहम्मदी अनुज कुमार सिंह के न्यायालय में फौजदारी के निस्तारित 301 वादो में रू. 40,400.00 अर्थदण्ड वसूल हुआ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *