Gonda News:जिलाधिकारी की अध्यक्षता में विकास कार्यक्रमों की मासिक समीक्षा बैठक सम्पन्न

विकासपरक, लाभार्थीपरक एवं जनकल्याणकारी योजनाओं में व्यक्तिगत रूचि लेकर प्रगति लाएं अधिकारी- डीएम

राम नरायन जायसवाल

गोण्डा।जिलाधिकारी डाॅ0 नितिन बंसल ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में विकास कार्यों एवं निर्माण कार्यों की मासिक समीक्षा की तथा जिम्मेदार अधिकारियों को उनके विभागों से सम्बन्धित विकासपरक, लाभार्थीपरक एवं जनकल्याणकारी योजनाओं में प्रगति लाने के निर्देश दिए। इसके साथ ही उन्होंने कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि वे निर्माण कार्यों में तेजी लाकर समय से निर्माण कार्य गुणवत्ता के साथ पूरा कराएं तथा पूर्ण कार्यों की गुणवत्ता की जांच कराकर उन्हें सम्बन्धित विभाग को दिसम्बर अन्त तक हैण्डओवर कराकर रिपोर्ट दें।


समीक्षा बैठक में जिलाधिकारी ने स्वास्थ्य, बेसिक शिक्षा, मनरेगा योजना, फसल बीमा योजना, किसान सम्मान निधि, मिशन कायाकल्प, अमृत योजना, एनआरएलएम, खाद्य एवं रसद विभाग, प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी एवं ग्रामीण, मत्स्य पालन, सामूहिक विवाह योजना, वृद्धावस्था, दिव्यांग एवं विधवा पेंशन योजना की स्थिति, शादी अनुदान योजना के लम्बित प्रकरणों, कन्या सुमंगला योजना, गन्ना मूल्य भुगतान, पीएम किसान सम्मान निधि, पराली जलाने के प्रकरणों, सोलर पम्पों की स्थापना, सामुदायिक शौचालयों का निर्माण, कौशल विकास मिशन, उद्योग विभाग, श्रम विभाग, खाद्य सुरक्षा, सहकारिता, कृषि विभाग सहित अन्य विभागों की प्रगति की समीक्षा की।


बैठक में जिलाधिकारी ने जिला पूर्ति अधिकारी को निर्देश दिए कि प्रत्येक दशा में रिक्त सरकारी कोटे की दुकानों का आवंटन शीघ्र कराना सुनिश्चित करें तथा राशन वितरण में प्राक्सी करने वाले कोटेदारों को चिन्हित कर कार्यवाही करें। नहर विभाग की समीक्षा के दौरान जनपद में सिल्ट सफाई के स्वीकृत 84 कार्यों के सापेक्ष मात्र 40 प्रतिशत प्रगति होने पर जिलाधिकारी ने सीडीओ को निर्देश दिए कि वे स्वयं नहरों की सिल्ट सफाई की समीक्षा कर रिपोर्ट दें। सरयू घाट सकरौरा के सुन्दरीकरण को लेकर एसडीएम की अध्यक्षता में कमेटी गठित कर रिपोर्ट मंगवाने के निर्देश दिए हैं।


समीक्षा बैठक में एक्सईएन विद्युत द्वारा बताया गया कि सरकारी विभागों के ऊपर करोड़ों रूपए का विद्युत देय बकाया है। इस पर डीएम ने निर्देश दिए कि विभागवार बकाए की सूची तैयार की जाय ताकि भुगतान की कार्यवाही कराई जा सके। वन विभाग की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने निर्देश दिए कि वर्ष 2021-22 के लिए वृक्षारोपण के लिए पहले से ही वृक्षारोपण स्थलों का चिन्हांकन कर लिया जाय। गन्ना मूल्य भुगतान की समीक्षा में जिला गन्ना अधिकारी ने बताया कि कुन्दरखी चीनी मिल को छोड़कर बाकी शेष सभी चीनी मिलों द्वारा किसानों के गन्ना मूल्य का भुगतान कर दिया गया तथा कुन्दरखी चीनी मिल के ऊपर अभी 135 करोड़ रूपए का बकाया शेष है जिसे मिल द्वारा जनवरी माह तक प्रत्येक दशा में दिए जाने का आश्वासन दिया गया है।
स्वास्थ्य विभाग की समीक्षा के दौरान ज्ञात हुआ कि आयुष्मान योजना के तहत जनपद में 68 प्रतिशत लाभार्थियों के  गोल्डेन कार्ड नहीं बन सके हैं। इस पर जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिए कि ब्लाकों पर तैनात आयुष्मान मित्रों को सक्रिय करते हुए लाभार्थियों को गोल्डेन जारी कराएं। जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिए कि दिसम्बर माह में कम से कम 25 हजार लाभार्थियों को गोल्डेन कार्ड बनवाना सुनिश्चित करें। समीक्षा बैठक में जनपद में निमार्णाधीन हेल्थ वेलनेस सेन्टरों के निर्माण कार्य में लापरवाही बरतने पर कार्यदायी संस्था ग्रामीण अभियंत्रण विभाग के एक्सईन को फटकार लगाते हुए तत्काल कार्य शुरू कराने के निर्देश दिए हैं। स्वास्थ्य विभाग में लम्बित आॅडिट आपत्तियों के निस्तारण में लापरवाही बरतने वाले कर्मियों का वेतन तत्काल प्रभाव से रोकने के निर्देश जिलाधिकारी ने दिए हैं। उद्योग विभाग की समीक्षा के दौरान लक्ष्य के सापेक्ष कम प्रगति होने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए उन्होंने सीडीओ को निर्देश दिए कि वे बैंकवार लम्बित प्रकरणों की समीक्षा कर ज्यादा से ज्यादा आवेदनों को निस्तारित कराएं तथा दोषी बैंकों के खिलाफ एक्शन भी लें।


खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन की समीक्षा के दौरान जिलाधिकारी ने अभिहित अधिकारी को निर्देश दिए कि वे अपर जिलाधिकारी के माध्यम से खाद्य सुरक्षा के लम्बित वादों को निस्तारित कराएं। श्रम विभाग की समीक्षा के दौरान श्रम प्रवर्तन अधिकारी को निर्देश दिए कि पांच वर्ष की पंजीकरण अवधि पूरी करने वाले श्रमिकों की सूची उन्हें उपलब्ध कराई जाय। पशु पालन विभाग की समीक्षा के दौरान उन्होंने मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि विगत माह मंे सुपुर्दगी की संख्या बहुत कम है, इसलिए व्यक्तिगत रूचि लेकर ज्यादा से ज्यादा गौवंशों की सुपुर्दगी कराएं। प्रधानमंत्री आवास योजना(ग्रामीण) की समीक्षा के दौरान पीडी द्वारा बताया गया कि शासन प्रधानंमत्री आवास योजना के तहत नवीन लक्ष्य 23 हजार 243 तथा मुख्यमंत्री आवास योजना के लक्ष्य 119 का लक्ष्य प्राप्त हुआ है जिसके लिए आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से राशन वितरण की समीक्षा में जिला कार्यक्रम अधिकारी ने बताया कि 80 प्रतिशत राशन का वितरण स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से किया जा चुका है तथा विकासखण्ड परसपुर व करनैलगंज में प्रगति संतोषजनक नहीं है। इस पर डीएम ने डीसी एनआरएलएम को निर्देश दिए कि वे वितरण में आ रही समस्याओं का निराकरण कराएं। जिलाधिकारी ने यह भी बताया कि आने वाले दिनों में शासन के निर्देशानुसार प्राइमरी स्कूलों के लिए डेªस सिलने का शत-प्रतिशत कार्य स्वयं सहायता समूहों के माध्यम से कराया जाएगा। इसलिए अभी से सक्रिय स्वयं सहायता समूहों का चिन्हांकन कर सूची बना लें। मनरेगा के तहत कराए जा रहे कार्यों की अलग से समीक्षा कराने के लिए मुख्य विकास अधिकारी को निर्देश दिए गए हैं।


निर्माण कार्यों की समीक्षा में जिलाधिकारी ने कार्यदायी संस्थावार विभागों मेें कराए जा रहे निर्माण कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों के निर्माण, राजकीय हाईस्कूल, विधि विज्ञान प्रयोगशाला, राजकीय पालीटेक्निक, कृषि महाविद्यालय करनैलगंज, वन टांगिया आश्रम पद्धति विद्यालय, कृषि विज्ञान केन्द्रों के निर्माण, प्र्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तहत आवासों के निर्माण की प्रगति, मिशन कायाकल्प योजना के तहत कराए जा रहे निर्माण कार्यों सहित अन्य कार्यों में अपेक्षित प्रगति न आने पर गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए सम्बन्धित कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारियों को सख्त निर्देश दिए हैं कि वे व्यक्तिगत रूचि लेेकर निर्माण कार्यों को गुणवत्ता के साथ पूर्ण कराएं तथा समय से हैण्डओवर भी कराएं। प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की समीक्षा के दौरान उन्होंने सीडीओ को निर्देश दिए कि वे पाक्षिक रूप से प्र्रगति की समीक्षा करें और उन्हें भी अवगत कराएं।


बैठक में मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी, सीएमओ डा0 अजय सिंह गौतम, डीएफओ आर0के0 त्रिपाठी, जिला विकास अधिकारी रजत यादव, पीडी सेवाराम  चैधरी, जिला पूर्ति अधिकारी वी0के0 महान, डीडी एग्रीकल्चर मुुुकूल तिवारी, जिला समाज कल्याण अधिकारी मोतीलाल, डीपीओ मनोज कुमार, डीसी मनरेगा हरिश्चन्द्र प्रजापति, जिला कृषि अधिकारी जेपी यादव, डीपीआरओ सभाजीत पाण्डेय, एक्सईएन-विद्युत, पीडीब्लूडी व जल निगम, बीएसए डा0 इन्द्रजीत प्रजापति, जिला प्रोबेशन अधिकारी जयदीप सिंह, जिला गन्ना अधिकारी ओ0पी0 सिंह, सहित अन्य विभागों के अधिकारी तथा कार्यदायी संस्थाओं के अधिकारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *