Gonda News:मकर सक्रांति काफी हर्षोल्लास के साथ पारंपरिक तरीके से मनाये, पतंग उड़ाते समय बरते सावधानियांं

डाक्टर ओ.पी.भारती

मकर सक्रांति काफी हर्षोल्लास के साथ पारंपरिक तरीके से मनाया जाने वाला त्योहार है। इस अवसर पर मूंगफली, तिल गुड़ के लड्डू,खाये जाते है, खिचड़ी का लुफ्त भी उठाया जाता है । चूंकि सर्दी का मौसम जा रहा होता है, गुनगुनी धूप निकलने लगती है। इस सुहाने मौसम में पतंग न उड़ाएं ऐसा हो नही सकता। मकरसंक्रांति के दिन तिल गुड़ व खिचड़ी खाने के साथ साथ पतंग बाजी भी आज के ही दिन से शुरू हो जाती है। ऐसे में कई पतंग बाजी प्रतियोगिता का भी आयोजन होता है।ज्यादातर लोग अपने घरों की छतों पर ,या सड़क के किनारे पतंग उड़ाते है, दूसरो की पतंग को काटने के लिए तरह तरह के तरीके आजमाते है। इन तरीकों में जैसे चाइनीज मंझे, तार लगे हुए मंझे होते है। लेकिन ये मंझे आप को या आपके आसपास वालो को किस तरह से नुकसान पहुचते है, पता है आप को ? शायद नही। यदि पता होता तो शायद आप ऐसा नही करते। आइये हम बताते है आप को कि किन सावधानियों के साथ पतंग उड़ाए।


पतंग उड़ाने के लिए यदि आप घर मकान की छतों पर जा रहे है तो ध्यान रखे कि ऐसी छतो पर रेलिंग या बाउंड्री वाल होनी चाहिए, नही तो पतंग उड़ाते समय आप का ध्यान पतंग पर होता है और पीछे आते आते छत से नीचे भी आ सकते है। कई बार ऐसा देखने को मिला भी है। जहाँ आप पतंग उड़ा रहे हो वहाँ पर हाई टेंसन बिजली का तार नही होना चाहिए, नही तो यदि मंझा गीला है या मंझे में तार लगा हुआ है तो आप विद्युत शॉक की चपेट में आ सकते है। सड़क के किनारे या किसी अन्य चालू मार्ग के किनारे पतंग न उड़ाए ,क्योंकि सड़क से गुजर रहे मोटरसाइकिल , सायकिल सवार के गले मे मंझा लिपटने से गला कट सकता है। मौतें भी हो जाती हैं। चाइनीज मंझे जिसमे सीसे के लेप लगे होते है, इनसे आप खुद तो घायल हो ही सकते है साथ ही हवा में उड़ रहे कबूतर, गिद्ध सारस या अन्य पक्षी घायल होकर दम तोड़ देते है। इस लिए आप लोग जब भी पतंग उड़ाने जायें तो सही स्थान का चुनाव करें। जिससे आप की मस्ती किसी की जान की आफ़त न बन जाये।और हां, चाइनीज मंझे व तार लगे मंझे का प्रयोग कदापि न करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *